शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

प्रियतम की नाव लगी हैं, कयूं डूबे मझधार

जाग मुसाफिर नाव लगी हैं तुझे जाना हैं उस पार

अरे छोड़ मोह कांकर पाथर का झटपट होले सवार
रे बन्दे जाना भवपार

इस नाव का नहीं किराया,सबका दाता हैं करतार
जाते ही तुझको गले लगाए, वो ऐसा हैं भरतार
रे बन्दे जाना हैं भवपार

जिस पर तुझको बड़ा गरब हैं ,वो नरतन हैं बेकार
जिस दिन छोड़ जाएगा पंछी, वो पड़ा रहेगा बेकार
रे बन्दे जाना हैं भवपार

अब तक बैठा नाव पाथर की, तू डूबन को तैयार
जब प्रियतम की नाव लगी हैं, कयूं डूबे मझधार
रे बन्दे जाना हैं भवपार

आपका
शिल्पकार

(फोटो गूगल से साभार)

Comments :

8 टिप्पणियाँ to “प्रियतम की नाव लगी हैं, कयूं डूबे मझधार”
M VERMA ने कहा…
on 

जाग मुसाफिर नाव लगी हैं तुझे जाना हैं उस पार
जागरण का यह सन्देश वाह
छायाचित्र बेमिसाल

ARTISAN ने कहा…
on 

नवरात्री की शुबकामनाएं

dev ने कहा…
on 

जिस दिन छोड़ जाएगा पंछी, वो पड़ा रहेगा बेकार
बहुत भावः भरा है,ये दुनिया तो आनी है,

udaychadra ने कहा…
on 

behtarin kaaya geet hai

shruti priya ने कहा…
on 

आपका लेखन उंचाईयों को छू रहा है,
शुभ कामनाएं

Amit K Sagar ने कहा…
on 

आपकी यह रचना मुझे बहुत बहुत पसंद आई. बार-बार पढने को मन कर रहा है. शुक्रिया. बहुत खूब! जारी रहें.
---

Till 25-09-09 लेखक / लेखिका के रूप में ज्वाइन [उल्टा तीर] - होने वाली एक क्रान्ति!

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari ने कहा…
on 

सुन्‍दर भाव, आभार.

kriti ने कहा…
on 

this is very beautiful song and ii feel so pleasurable to read it. i want to give many wishes to poet to write this meaningful song and make us to read and make our attraction towards poem, songs and much more again well wishes with you always.

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)