शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

तेरे माथा ऊँचा होगा बाबुल ऐसा काम करूंगी

बाबुल मोरी डोली सजाओ
सारी सहेलियां ब्याह गयी हैं,मुझको भी परणाओ
बाबुल मोरी डोली सजाओ

हाथ पीले कर दो मेरे अब तुम ना ये भार रखो
मैं भी पहनू लाल चुनरिया नौ लखा तुम हार करो
नाक में नथली पग में पायल मुझको भी पहनाओ
बाबुल मोरी डोली सजाओ

मेरे फेरों के मंगल मंडप में सुन्दर फूल सजेंगे
मेरी मांग में भी रंग-रंग के चाँद सितारे जडेंगे
मेरा घर भी हो नंदनवन साजन से मिलवाओ
बाबुल मोरी डोली सजाओ

साजन से मिलेगी सजनी तब नंदनवन महकेगा
चन्दन की खुश्बू से सारा तब उपवन महकेगा
मैं भी होऊं सदासुहागन अब मेरी बरात बुलाओ
बाबुल मोरी डोली सजाओ

होके बिदा मैं तेरे घर से सबकी लाज रखूंगी
तेरे माथा ऊँचा होगा बाबुल ऐसा काम करूंगी
शुभ घडी बिदा की आई अब डोली कहार उठाओ
बाबुल मोरी डोली सजाओ

आपका
शिल्पकार

(फोटो गूगल से साभार)


Comments :

8 टिप्पणियाँ to “तेरे माथा ऊँचा होगा बाबुल ऐसा काम करूंगी”
Kanchan ने कहा…
on 

bahut badhiya...
kanchan
www.click4jobs.co.in

विपिन बिहारी गोयल ने कहा…
on 

तेरे माथा ऊँचा होगा बाबुल ऐसा काम करूंगी

bahoot khoobsurat kavita hai

संगीता पुरी ने कहा…
on 

बहुत सुंदर और प्‍यारा गीत !!

Mithilesh dubey ने कहा…
on 

बहुत खुब लिखा है आपने। हर एक पंक्ति लाजवाब है। इस शानदार रचना के लिए बहुत-बहुत बधाई.........

Nirmla Kapila ने कहा…
on 

बहुत सुन्दर गीत है शुभकामनायें

lalit sharma ने कहा…
on 

बधाई के लिए बहुत-बहुत बधाई

kriti ने कहा…
on 

it is very beautiful and touching poem and give many many wishes to poet to write many other poems to give us more knowledge and pleaser to read this type of meaningful poems and again well wishes to you

kriti ने कहा…
on 

this is very big pleasure to read this type of stupendous poem. this is very beautiful song and very emotional also and i give many wishes to poet to write this type of meaningful poem that we can read increase our attraction towards poetry and again well wishes to you.

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)