शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

आओ चुनरिया सतरंगी कर दूँ


आओ चुनरिया सतरंगी कर दूँ अबकी बार होली में
आओ प्रीत रंग हजार बिखेर दूं अबकी बार होली में
जागा है मधुमास मास आज
सुगंध लिए ॠतुराज आया 
कान्हा ने भर ली पिचकारी
देख मन मोरा भी हरसाया 
लेकर आया हूँ प्रीत अमिट रंग,भरके अपनी झोली में
आओ चुनरिया सतरंगी कर दूँ अबकी बार होली में
परसा फ़ूला नीम भी बौराया 
भंग रंग भंगीला मौसम आया 
गुलाल से गाल रंगवा ले गोरी
कुंजन में भंवरा भी भंगियाया 
लाया ठंडाई बदामी केसरिया भरके अपनी डोली में
आओ चुनरिया सतरंगी कर दूँ अबकी बार होली में
अरे रंग तू लगवाले गोरिया 
काहे को इतना शरमाती है
चार दिन है अब होलिया के
काहे को इतना इठलाती है
हाथ पकड़ कर झूम ले गोरी आए मजा ठिठोली में
आओ चुनरिया सतरंगी कर दूँ अबकी बार होली में
महका चंदनिया मधुबन है 
कोयल की कूक निराली
रंग भर ले तू पिचकारी में
सजनी होली खेलें आली
भीग जाए सब तन मन रंग से अबकी बार होली में
आओ चुनरिया सतरंगी कर दूँ अबकी बार होली में

Comments :

6 टिप्पणियाँ to “आओ चुनरिया सतरंगी कर दूँ”
संध्या शर्मा ने कहा…
on 

सतरंगी इन्द्रधनुष छाया है रंगों का, अबकी बार होली में ...बहुत सुन्दर रचना

ताऊ रामपुरिया ने कहा…
on 

बेहतरीन होली रचना, भंवरे इस मास में कुछ ज्यादा ही भंग सेवन करने लगते हैं.

रामराम.

Kalipad "Prasad" ने कहा…
on 

बहुत सुन्दर होली गीत
latest post कोल्हू के बैल

Dr. sandhya tiwari ने कहा…
on 

बहुत ही सुन्दर रचना ...........शुभकामनायें

Onkar ने कहा…
on 

सुन्दर रचना

Kuldeep Thakur ने कहा…
on 

सुंदर रचना...
आप की ये रचना आने वाले शनीवार यानी 28 सितंबर 2013 को ब्लौग प्रसारण पर लिंक की जा रही है...आप भी इस प्रसारण में सादर आमंत्रित है... आप इस प्रसारण में शामिल अन्य रचनाओं पर भी अपनी दृष्टि डालें...इस संदर्भ में आप के सुझावों का स्वागत है...

उजाले उनकी यादों के पर आना... इस ब्लौग पर आप हर रोज कालजयी रचनाएं पढेंगे... आप भी इस ब्लौग का अनुसरण करना।

आप सब की कविताएं कविता मंच पर आमंत्रित है।
हम आज भूल रहे हैं अपनी संस्कृति सभ्यता व अपना गौरवमयी इतिहास आप ही लिखिये हमारा अतीत के माध्यम से। ध्यान रहे रचना में किसी धर्म पर कटाक्ष नही होना चाहिये।
इस के लिये आप को मात्रkuldeepsingpinku@gmail.com पर मिल भेजकर निमंत्रण लिंक प्राप्त करना है।



मन का मंथन [मेरे विचारों का दर्पण]


 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)