शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

हंसा चल रे अपने देश

हंसा चल रे अपने देश
ऊँची उडान भर नील गगन की रहे न कुछ भी शेष
हंसा चल रे अपने देश

यहाँ नहीं हैं कोई अपना सारा जग बीराना
सारे हैं सब झूठे नाते नहीं हैं कोई ठिकाना
बहरुपीयों की नगरी में धर ले असली भेष
हंसा चल रे अपने देश

कैसे उडेगा कागा मन का भिष्ठा में बैठा हैं
करके अपनी मोती चमड़ी कीचड़ में लेटा हैं
उसकी पाती आके अब तो मेटे सारे क्लेश
हंसा चल रे अपने देश

सुना ठाठ पड़ा रहा जाये हंसा छोड़ चले जब काया
सारा ठाठ दारा रहा जाये ऐसी हैं सब उसकी माया
जहाज का पंछी मूड के आये रखे न किसी का द्वेष
हंसा चल रे अपने देश

ऊँची उडान भर नील गगन की रहे न कुछ भी शेष
हंसा चल रे अपने देश


आपका
शिल्पकार

Comments :

4 टिप्पणियाँ to “हंसा चल रे अपने देश”
AlbelaKhatri.com ने कहा…
on 

उत्तम भाव........सूफी अंदाज़..........सन्त वाणी सा संदेश

अच्छा गीत........बधाई !

Udan Tashtari ने कहा…
on 

एक यथार्थ भाव..उम्दा रचना.

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari ने कहा…
on 

बहुत सुन्दर कविता है भाई, भाव गहरे हैं. आभार भाई.

Kusum Thakur ने कहा…
on 

बहुत ही अच्छी रचना ,बहुत अच्छे भाव . .

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)