शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

रन बन रन बन हो SSS-----ललित शर्मा

वरात्रों की धुम जोरों पर है। छत्तीसगढ़ मे जसगीत गाने वाली सेवा टोलियां जंवारा स्थल पर जाकर देवी माता की सेवा कर रही हैं, जगह-जगह जंवारा गीत गाए जा रहे है- जवाँरा से तात्पर्य ठंड मे बोए जाने वाला धान्य जौ से है। जंवारा छत्तीसगढ़ मे शक्ति की देवी दुर्गा माता का प्रतीक है  शब्द शीतकाल में रोपे जाने एक अनाज जौ से बना है । छत्तीसगढ़ में जवाँरा जो कि शक्ति और देवी का प्रतीक है । वर्ष में दो बार बोया जाता है । चैत शुक्ल से नवमी तक तथा द्वितीय कुंआर शुक्ल से नवमी तक जवाँरा में गेहूँ, उड़द, चना पांच या सात प्रकार के बीज घर के भीतर भूमि पर अथवा टोकनी में देवी स्थापना के पश्चात् बोये जाते है । अंकुरित, पौधो की सुबह शाम पूजा की जाती है, जवाँरा के सेवक इस अवसर पर जवाँरा गीत गाये जाते है । जवाँरा गीतों में दुर्गा माँ की आरती विभिन्न देवताओं की स्तुति उनके निवास वाहन तथा भोजन आदि का वर्णन मिलता है । ढोलक, झांझ, चांग, मंजीरा, मांदर, खलहर आदि पौधों का प्रमुख जवाँरा गीत में प्रयोग किया जाता है । जंवारा सेवा दल के श्री नंद कुमार निषाद राज के सौजन्य से कुछ माता सेवा गीत प्राप्त हुए हैं जिन्हे प्रस्तुत कर रहा हुँ।

जसगीत-माता सेवा गीत

रन बन रन बन हो SSS
तुम खेलव दुलरवा रन बन रन बन होSSS
रन बन रन बन हो SSS
काकर पुत हे बाल बरमदेव काकर पुत गौरेइया
काकर पुत हे बन के रक्सा
रन बन रन बन हो SSS
ब्राहमन पू्त हे बाल बरमदेव अहिरा पूत गौरेइया
धोबिया पूत हे बन के रक्सा
रन बन रन बन हो SSS
कहंवा रहिथे बाल बरमदेव कहंवा रहिथे गौरेइया
कहंवा रहिथे बन के रक्सा
रन बन रन बन हो SSS 
बर मा रहि्थे बाल बरमदेव कोठा मा रहिथे गौरेइया
बन मा रहिथे बन के रक्सा
रन बन रन बन हो SSS
का पूजा लेथे बाल बरमदेव, का पूजा लेथे गौरेइया
का पूजा लेथे बन के रक्सा
रन बन रन बन हो SSS
नरियल लेथे बाल बरमदेव, कुकरी लेथे गौरेइया
यहां भैंसा लेथे बन के रक्सा
रन बन रन बन हो SSS  
तुम खेलव दुलरवा रन बन रन बन होSSS
रन बन रन बन हो SSS

आपका 
शिल्पकार
 

Comments :

7 टिप्पणियाँ to “रन बन रन बन हो SSS-----ललित शर्मा”
जी.के. अवधिया ने कहा…
on 

जै हो!!!

बहुत सुन्दर जसगीत हे महराज!

"ठग ठग बोकरा खाये हो कंकाली माई" घलो ला सुनाते महराज! अड़बड़ेच् अच्छा लागथे!

राज भाटिय़ा ने कहा…
on 

बहुत सुंदर जानकारी दी आप ने, धन्यवाद

ताऊ रामपुरिया ने कहा…
on 

इस सुंदर गीत के लिये बहुत धन्यवाद.

रामराम.

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…
on 

...जय माता दी !!!!

शरद कोकास ने कहा…
on 

वाह इस जसगीत की धुन मन मे बजने लगी ।

राजकुमार ग्वालानी ने कहा…
on 

सुन्दर जसगीत

Dr Satyajit Sahu ने कहा…
on 

जसगीत की महिमा अपार है

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)