शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

कभी कभी रंगों से भी खेलने का मन करता हैं


आज सुबह सोचा की एक कविता या गीत फिर लगाता हूं,लेकिन तभी मेरे सामने मेरी बनाई हुई एक पेंटिंग आ गई, सोचा की आज नयी शुरुआत करूँ और इसे ही पोस्ट पर लगा दूँ,काफी कलम घसीटी हो गई जरा इसे विश्राम दे कर ब्रश से भी काम लेना चाहिए, नहीं तो वह आलसी हो जायेगी ज्यादा आराम करने के कारण,सो प्रस्तुत हैं एक चित्र, इसे मैंने एक्रेलिक कलर से बनाया हैं, लेकिन इसे बनाने में ब्रश का उपयोग नहीं किया,इसे बनाने में ब्रस के जगह सेविंग ब्लेड का इस्तेमाल किया हैं, कभी कभी रंगों से भी खेलने का मन करता हैं,रंग मुझे अपनी ओर खींचते हैं और अपने आप को रोक नहीं पाता.इसका ही परिणाम हैं की कुछ नया सृजन हो जाता हैं,  

आपका 
शिल्पकार,

Comments :

2 टिप्पणियाँ to “कभी कभी रंगों से भी खेलने का मन करता हैं”
ओम आर्य ने कहा…
on 

ललित जी
क्या कहने आपके तस्वीर के/बहुत ही सुन्दर है आपका सोच/बधाई!

lalit sharma ने कहा…
on 

dhanyavad omji, steshthajan yogyata ki pahchan karte hai,apko punh danyavad ye hi sneh hona chahiye,

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)