शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

जयति जय विश्वकर्मा विधाता



जयति जय विश्वकर्मा विधाता
सकल सृष्टि के तुम निर्माता

तुमने जल थल पवन बनाए
अन्तरिक्ष में गगन समाए
उसमे सूरज चाँद लगाए
आकाश में तारे चमकाए

सब मंगल सुखों के हो प्रदाता

जयति जय विश्वकर्मा विधाता


रंग बिरंगे फूल खिलाए
नर-नारी और जीव बनाए
पतझड़ वर्षा बसंत सजाए
रथ,पुष्पक विमान चलाए

सज्जन दुर्जन सबका दाता
जयति जय विश्वकर्मा विधाता

यज्ञ योग विज्ञान रचाए
वेद ऋचाओं में हैं समाए
गिरि कन्दरा महल बनाए
धरती पर अन्ना उपजाए

सकल कष्टों के तुम हो त्राता
जयति जय विश्वकर्मा विधाता

अग्नि में ज्योति प्रगटाए
जन हित में आयुध बनाए
मेघों से पानी बरसाए
सकल विश्व का हित कराए

ललित ज्ञान हैं तुमसे पाता
सकल सृष्टि के तुम निर्माता

जयति जय विश्वकर्मा विधाता



Comments :

4 टिप्पणियाँ to “जयति जय विश्वकर्मा विधाता”
शरद कोकास ने कहा…
on 

ललित जी आपको भी विश्वकर्मा जी की जयंती पर शुभकामनायें । आप तो सचमुच एक अच्छे कार्य मे अपने आप को समर्पित कर रहे हैं । अपने क्षेत्र के इस श्रमजीवी वर्ग की ओर ध्यान देना ज़रूरी है । आप इस दिशा मे प्रयास्रत है जानकर अच्छा लगा । मेरा सहयोग रहेगा । -शरद कोकास ,दुर्ग छ.ग.

Udan Tashtari ने कहा…
on 

विश्वकर्मा जयंती पर शुभकामनायें.

रश्मि प्रभा... ने कहा…
on 

bahut hi sahi lekhan aaj ke din ke naam......karm aur shram ki pooja

बेनामी ने कहा…
on 

जिन मनुष्यों के श्रम से इस कायनात की रचना होती है...
पूरे विश्व के कर्मा इन विश्वकर्मा श्रमशीलों को सलाम..

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)