शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

जंजीरों से बांधने वाली सभ्यता

मैं जंगली हूँ,
सीधा सा,भोला सा
सबसे डरने वाला
अपनी छोटी सी दुनिया में
बसने वाला,रहने वाला
अपने जंगल को चाहने वाला
एक मृग के पीछे चला आया
रास्ता भटक गया,
पकड़ लिया गया मुझे
शहर में घेरकर


जंजीरों से बंधा गया मुझे
इनमे मेरा अपना कोई नही था
सब पीछे जंगल में छुट गया
मेरी माँ,मेरा कुत्ता,मेरी शान्ति
अब ये मुझे पाल रहे हैं
कुर्बानी के बकरे की तरह
जगह -जगह भीड़ में घुमाते है मुझे
बन्धनों में जकडा छटपटाता हूँ मैं
मुझे मेरे घर की याद आती है
मेरा घर
मेरा जंगल बुलाता है मुझे
मैं उसके पलंग के पाए से बंधा हूँ
पामेरियन कुत्ते की तरह
वे हँसते हैं तो
मुझे बड़ा डर लगता है
उनकी हँसी बड़ी डरावनी है
कैसी विडम्बना है
शहरी जंगल से डरता है
जंगली शहरी से डरता है,
दोनों डरते हैं,
वे मुझे चाहते हैं,
पुचकारते हैं ,दुलारते हैं,
लेकिन मैं जंगली,सिर्फ़ जंगली
जंगल की रट लगाये रहता हूँ



वह भी मुझे दुलारती है
पुचकारती है खिलाती है
अपने आंचल में बाँध लेना चाहती है
मै जंगल में अपना
भविष्य देखता हूँ
इन जंजीरों को तोड़ना है
तोड़ने का प्रयास करूँगा
आजाद होना चाहता हूँ
इस कैद से
यहाँ पर सब अपने हैं लगता है
पर अपना सा कोई नही होता
कुछ समय का अनुबंध है अभिनय का
छुट कर जाना चाहता हूँ
अपने जंगल में
जो सिर्फ़ मेरा है
अपना सा है/सभ्य है
एक बार इस कैद से छुट जाऊँ
फ़िर कही नही आऊंगा
शहर में
जंजीरों से बांधने वाली
सभ्यता में
गूम होने के लिए 

आपका
शिल्पकार

(फोटो गूगल से साभार)

Comments :

1
संजीव तिवारी ने कहा…
on 

बहुत ही सुन्‍दर कविता ललित भाई, आभार.


आपको विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनांए.

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)