शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

ये चाय समोसा गरम,उधार खाते रहे हरदम


हमारे गांव में एक होटल हैं बस स्टेंड में उसके मालिक बहुत ही सज्जन हैं,एक अघोषित वैराग उन पर हमेशा
चढा रहता हैं ,जब भी जाओ तो वे अपने ध्यान में ही मगन रहते हैं,उनको सुबह उनके घर के लोग याद दिलाते
हैं के"चलो सुबह हो गयी हैं अब जाकर ढाबा खोलना हैं,तब वो ढाबा पहुचते हैं,रात को जब घर के लोग उनको
बुला कर ले जाते हैं,तब ढाबा बंद होता हैं,खाके कोई पैसा दिया तो ठीक नहीं दिया तो ठीक,वैसे भी अधिकतर
उधारी वाले ही उनके ढाबे में आते हैं,थोडी तारीफ किये उनके ज्ञान की भक्ति की,और नास्ता किये चाय पिए
अपना खाए पिए और चल दिए,बहुत दिन से मैं देख रहा था,एक दिन मेरे दिल से उनके लिए कुछ पंक्तियाँ निकल
पड़ी वो आज विशेष रूप से आप लोगों के साथ बाँटना चाहता हूँ,कृपया मेरे साथ भी आप ढाबा चलकर आनंद लें

ये चाय समोसा गरम
उधार खाते रहे हरदम
आप पैसे ना दें 
यहाँ से ना टलें
ताकि फूटे हमारे करम
ये चाय समोसा गरम ....


वो जलेबी तला जा रहा 
वो हंस-हंस के हलवा खा रहा
खोवे का हैं ये माल
फूल गये हैं वे गाल
उसपे गुस्सा बड़ा आ रहा
खा रहा हैं कचौरी गरम
कहाँ बेच डाली हैं शरम
आप पैसे ना दे 
यहाँ से ना टलें 
ताकि फूटे हमारे करम
ये चाय समोसा गरम......


तुमने जब से समझा हैं 
अपना हैं माल
तब से बिगाडा हैं अपना ये हाल
आते जाते रहे 
रोज खाते रहे
उधार खा के किया हैं कंगाल
कहाँ गिरवी रखी हैं शरम
उधार खाते रहे हरदम 
आप पैसे ना दें 
यहाँ से न टलें
ताकि फूटे हमारे करम
ये चाय समोसा गरम..........


आपका
शिल्पकार

(फोटो गूगल से साभार)

Comments :

6 टिप्पणियाँ to “ये चाय समोसा गरम,उधार खाते रहे हरदम”
M VERMA ने कहा…
on 

बहुत सुन्दर संसमरण और साथ ही सुन्दर कविता.
कमाल का व्यक्तित्व है ढाबे वाले का.

dev ने कहा…
on 

भाई साब सुबह सुबह चाय समोसा गरम क्या बात हैं,
बहुत ही मजेदार रचना हैं,
भाई साब ढाबे का पता देना

Ram ने कहा…
on 

Just install Add-Hindi widget button on your blog. Then u can easily submit your pages to all top Hindi Social bookmarking and networking sites.

Hindi bookmarking and social networking sites gives more visitors and great traffic to your blog.

Click here for Install Add-Hindi widget

kriti ने कहा…
on 

this is very good and intresting to read a poem.

Pankaj Mishra ने कहा…
on 

bahoot khoob !

riti ने कहा…
on 

bahoot acchi hai mene pathi hai. it is intresting

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)