शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

छोडो इतिहास का बोझा,पथ नवीन अपनाओ अब तुम अपने हाथो से ,इतिहास नया रचाओ




यह कविता मैंने काफी वर्षों पहले कारगिल युद्घ के समय लिखी थी,
आज पुरानी डायरी हाथ में आ गयी तो सोचा की आपको भी पढ़वा दूँ

छोडो इतिहास  का बोझा,पथ नवीन अपनाओ
अब तुम अपने हाथो से ,इतिहास नया रचाओ 

नव युग का आह्वान करो,अब तुम्हारी बारी है,
हो जाओ तैयार रणबीरों,अब तुम्हारी बारी है 
कदम आगे  बढाकर  तुम नव अश्वमेघ रचाओ 


छोडो इतिहास  का बोझा,पथ नवीन अपनाओ
अब तुम अपने हाथो से ,इतिहास नया रचाओ 


तेज करो शमशीरों को,तुफानो से मत घबराओ,
बाधाओं से लड़ जाओ,लान्घो ऊँची दीवारों को 
घनघोर युद्ध रचाओ ऐसे, नाम अमर कर जाओ


छोडो इतिहास  का बोझा,पथ नवीन अपनाओ
अब तुम अपने हाथो से ,इतिहास नया रचाओ 


भीष्म प्रतिज्ञा बिना कही,रास्ट्र कल्याण होगा 
नवीन सूर्य  उदित होगा, जब शर संधान होगा
लक्ष्य तुम  ही पाओगे, बसंती  चोला अपनाओ


छोडो इतिहास  का बोझा,पथ नवीन अपनाओ
अब तुम अपने हाथो से ,इतिहास नया रचाओ 


आपका  

शिल्पकार 
फोटो गूगल से साभार





Comments :

1
kriti ने कहा…
on 

this is very good and intresting poem i must say. i have read it and enjoy also well wishes to poet to write poem and give us pleausure to read this type of poem

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)