शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

मैं परदेश फंसा हूँ आय ......


 मैं  परदेश  फंसा  हूँ आय .................................
तोड़  के पिंजरा  एक  दिन, उड़ जाऊँ पंख फैलाय

आ बैठा था एक डाली   पे,चन्द्र  किरण को ताके
दिवस  हो  तो  मैं  उड़ जाऊँ,  ईत  उत था  झांके 
जाल फैलाये बैठा बहेलिया,मुझको लिया फंसाय
मैं परदेश फंसा हूँ  आय...................................

पॉँच  डोर  से  बांध के मुझको,पिंजरे दिया बैठाय
खुले  गगन  में  उड़ने  वाला,  कैद  हुआ हूँ  आय 
काल  कोठरी  मिली  भयंकर,  कैसे   कैद   हेराय
मैं परदेश फंसा हूँ  आय...................................


मुझ  हंसा  का  यहाँ  नहीं  घर, मेरा  दूर  ठिकाना
दिन   रैन   कैदी   बनके,  पडा  है  समय  बिताना
पिंजरा  खुलते  ही  उड़  जाऊँ, अपने   पर  फैलाय
मैं  परदेश  फंसा  हूँ  आय..................................







आपका 
शिल्पकार 

फोटो गूगल से साभार

Comments :

4 टिप्पणियाँ to “मैं परदेश फंसा हूँ आय ......”
Ratan Singh Shekhawat ने कहा…
on 

मैं परदेश फंसा हूँ आय .

परदेश का दर्द परदेशी ही जान सकता है | राजस्थान के कवि भगीरथ सिंह भाग्य ने इस दर्द को कुछ इस तरह बयान किया है |

लोग ना जाणे कायदा ना जाणे अपणेश
राम भले ही मौत दे पर मत दीजै परदेश |

ललित शर्मा ने कहा…
on 

लोग ना जाणे कायदा ना जाणे अपणेश,

यो तो अपणेश ही सै, जो मिणख नै सात समदर पार भी भायलो बणा दे, ओर गाँव म रह्वे तो दुश्मनी, फ़ेर परदेश तो पर-देश सै।
परदेशी की प्रीत की रे,कोई मत करियो हो।
बिणजारे की आग युँ भई,गया सुलगती छोड़॥

pagal12345 ने कहा…
on 

देश परदेश मे भेद मत करो किसी ने कहा है
"चीन और अरब हमारा, सारा जहां हमारा
रहने को घर नही है, हिन्दुस्तान हमारा।

शरद कोकास ने कहा…
on 

मुझे कवि प्रदीप का लिखा और गाया पिजड़े के पंछी गीत याद आ गया । अच्छी रचना ।

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)