शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

दुनिया है आनी जानी रे बन्दे, दुनिया है आनी जानी




दुनिया  है  आनी  जानी  रे  बन्दे,  दुनिया  है आनी जानी 
बोल  ले  अब  तो  अपने  मुंह से प्यारे प्रभु की मीठी बानी 
दुनिया    है    आनी     जानी , 
दुनिया   है  आनी  जानी,रे बन्दे


सुन्दर  थी वह  गात  भी  गई,  गरजने वाली बात भी गयी
रहता   है  क्यों भुला-भुला,  साँस  गई  और  रात  भी गई
छोड़  दे  अब  तू तीर कमानी,
दुनिया है आनी जानी रे बन्दे 


राजा  गये और  गए भिखारी,मुरख गये और नीति धारी
रहता  है  क्यों  फुला-फुला, नामी  गये  और  गद्दी  धारी 
फिर  भी  तुने  बात  ना मानी
दुनिया है आनी जानी रे बन्दे.


साधू  गये  और महंत भी गए,संत गये और  असंत भी गए
तू माया पींग पर झुला-झुला,ना जाने कितने बसंत भी गये
फिर क्यों करता तू अभिमानी
दुनिया  है  आनी  जानी रे बंदे


कर  ले  अब  कुछ  तो  समाई, छोड़  दे  सारे  दुर्गुण  भाई,
प्यारे  प्रभु में  लगन लगा कर,कर ले कुछ तो नेक कमाई 
संवर   जायेगी  ये जिंदगानी,
दुनिया है आनी जानी रे बन्दे,


आपका 
शिल्पकार


फोटो गूगल से से साभार

Comments :

19 टिप्पणियाँ to “दुनिया है आनी जानी रे बन्दे, दुनिया है आनी जानी”
dev ने कहा…
on 

bahut sundar bhajan, achchaa bhav,aabhar,

school ने कहा…
on 

बहुत ही प्रेरणास्पद भजन है भैया,आपको धनतेरस की शुभकामनाएं

udaychadra ने कहा…
on 

दुनिया है आनी जानी रे बंदे, बहुत ही सुन्दर भाव,
बधाई,

udaychadra ने कहा…
on 

दुनिया है आनी जानी रे बंदे, बहुत ही सुन्दर भाव,
बधाई,

ललित शर्मा ने कहा…
on 

धन्यवाद देव भाई आपको धनतेरस की शु्भकामनाएं

ललित शर्मा ने कहा…
on 

धन्यवाद उदय जी,आपको धनतेरस की शु्भकामनाएं

ललित शर्मा ने कहा…
on 

धन्यवाद मास्टर जी भाई आपको धनतेरस की शु्भकामनाएं

संगीता पुरी ने कहा…
on 

यही तो लोग नहीं समझते .. बहुत सुंदर रचना लिखी आपने !!

पी.सी.गोदियाल ने कहा…
on 

राजा गये और गए भिखारी,मुरख गये और नीति धारी

रहता है क्यों फुला-फुला, नामी गये और गद्दी धारी

फिर भी तुने बात ना मानी

दुनिया है आनी जानी रे बन्दे.

Bahut Sundar !!

ललित शर्मा ने कहा…
on 

dhanyvad gondiyal ji,aapko shubhkamnayen,

ललित शर्मा ने कहा…
on 

dhanyvad sngeeta ji,aapko shubhakamnayen
sneh bnaye rakhen,

Pandit Kishore Ji ने कहा…
on 

bahut khoob "duniya hain aani jaani waah ...ati sundar

समयचक्र - महेंद्र मिश्र ने कहा…
on 

बहुत बढ़िया गीत प्रस्तुति बधाई .

M VERMA ने कहा…
on 

ज़िन्दगी को सबक देती बहुत अच्छी प्रस्तुति

Udan Tashtari ने कहा…
on 

भजन है बहुत भावपूर्ण!!

बधाई हो महाराज!

ललित शर्मा ने कहा…
on 

धन्यवाद समीर भाई आपको धनतेरस की शु्भकामनाएं

ललित शर्मा ने कहा…
on 

धन्यवाद मिसिर जी आपको धनतेरस की शु्भकामनाएं

ललित शर्मा ने कहा…
on 

धन्यवाद पँ किशोर जी आपको धनतेरस की शु्भकामनाएं

ललित शर्मा ने कहा…
on 

धन्यवाद वर्मा जी आपको धनतेरस की शु्भकामनाएं

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)