शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

जहाँ फिर ना कोई अग्नि परीक्षा होती


उस शाम 
बढ़ चले थे 
मेरे कदम 
अज्ञात पथ की ओर
दिशा हीन मैं 
तुमने कहा 
मत जाओ 
बहुत कांटे है इस राह पर
लेकिन  प्रिये 
कैसे भूल जाऊँ?
उन ह्रदय भेदी शब्दों को
कैसे भूल जाऊँ?
उस दासता को 
कैसे भूल जाऊँ?
उस कबीले के 
कानून को 
जिसका पालन करना ही
मेरी विरासत हैं
कैसे भूल जाऊँ?
उस कर्कश वाणी को
जिसने जिस्म चीर 
हृदय छलनी किया है
मै वो परकटा पंछी 
उस डाल पर बैठा
जिसके एक तरफ कुँआ 
एक तरफ खाई है
कदम आगे बढाऊ तो मरा 
पीछे हटाया तो मरा 
काश! ये धरती ही फट जाती 
उसमे समां जाती 
सीता की तरह 
जहाँ फिर ना कोई 
अग्नि परीक्षा होती 
बढ़ जाती उस अंतहीन 
पथ की ओर 
जहाँ सिर्फ मै होती
और सिर्फ मै होती 

आपका 
शिल्पकार 
(फोटो गूगल से साभार)



Comments :

6 टिप्पणियाँ to “जहाँ फिर ना कोई अग्नि परीक्षा होती”
स्वच्छ संदेश: हिन्दोस्तान की आवाज़ ने कहा…
on 

उस दासता को
कैसे भूल जाऊँ?
उस कबीले के
कानून को
जिसका पालन करना ही
मेरी विरासत हैं
कैसे भूल जाऊँ?

gr8

Nirmla Kapila ने कहा…
on 

काश! ये धरती ही फट जाती
उसमे समां जाती
सीता की तरह
जहाँ फिर ना कोई
अग्नि परीक्षा होती
बढ़ जाती उस अंतहीन
पथ की ओर
जहाँ सिर्फ मै होती
और सिर्फ मै होती
बहुत भावमय रचना है औरत के लिये तू पूरा जीवन अग्निपरीक्षा है शुभकामनायें

lalit sharma ने कहा…
on 

निर्मला जी आपका स्नेह ही हमारी अक्षय पुंजी है,
आशीर्वाद बनाए रखिए,

lalit sharma ने कहा…
on 

स्वच्छ हिन्दोस्तान की ही जरुरत है हमे धन्यवाद

Pankaj Mishra ने कहा…
on 

ललित जी काफी मेहनत किया होगा आपने ऐसे अद्भुत रचना लिखने के लिए धन्यवाद

ravikumarswarnkar ने कहा…
on 

भाई जी,
एक बेहतर कविता....

पर गहरे रंग की पृष्ठभूमि में काले रंग में अक्षर पहले तो दिखे ही नहीं ( जैसे कि मैं थोड़ा चमक कम ही रखता हूं )...

जब चमक बढ़ाई तो कविता नमूदार हुई...वरना फोटो ही दिखता था...

या तो पृष्थभूमि हल्की करें...या शब्दों को हल्का करें....

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)