शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

हमारा जन प्रतिनिधि कैसा हो ?????


हमारा जन प्रतिनिधि हो महान
जीतते  ही बंगला ले आलिशान
एक दिन में आ जाये बड़ी कार 
जन भूखा मरे, रोज जाये "बार"

दिल्ली  में बड़े -बड़े नेताओं के 
दिन-रात   हाथ-पैर  दबाता हो
सुबह-सुबह मेडम के टॉमी को
नित  तफरी कराने ले जाता हो


पॉँच  सालों  में  खूब  कमा  ले
स्विस  बैंक  में  खाता  बना ले
जमा  करा  दे  सारा  धन  वहां
कई  पीढियों  मामला  जमा ले


एक  बार  तो   मुझे  जीता दो 
भाई- बाबा- अम्मा  कहता  हो
चेहरे  पर  रहे  मुस्कान  ऐसी 
जैसे  मंजा हुआ  अभिनेता  हो


हमारा  जन प्रतिनिधि ऐसा हो
जनता  पर  रखे  अपना  मन 
जब   जीत  जाये वो चुनाव तो
आकर   दे  सबको  "दूरदर्शन"

आपका
शिल्पकार 
 फोटो गूगल से साभार 

Comments :

8 टिप्पणियाँ to “हमारा जन प्रतिनिधि कैसा हो ?????”
Vivek Rastogi ने कहा…
on 

’दूरदर्शन’ बिल्कुल सटीक ।

ललित शर्मा ने कहा…
on 

धन्यवाद विवेक जी-स्वागत है,

Anil Pusadkar ने कहा…
on 

सभी तो वैसे ही हैं,जैसा आप चाह्ते हैं,बस ध्यान से देखने की ज़रूरत है,एकाध नही है तो वो भी सुधर जायेंगे धीरे धीरे,सुना है ना खरबूज़े को देख कर खरबुज़ा रंग बदलता है।

ललित शर्मा ने कहा…
on 

अनिल भैया जोहार ले,
खरबुजे का रंग बदल जाने दो
कमाने का ढंग बदल जाने दो
ये कितने..(आपके आशीष वचन)..है
कुछ नोटों को जंग लग जाने दो।

पी.सी.गोदियाल ने कहा…
on 

शर्मा जी दो लेने मैं भी जोड़ रहा हूँ :
हमारा जनप्रर्तिनिधि हो ऐसा,
जिसके घर में भी और प्रतिनिधियों की तरह भरष्टाचार का वास हो
खूब कमाए, और भगवान् करे , आखिर में उसका भी सत्यानाश हो

ललित शर्मा ने कहा…
on 

वाह-वाह गोदियाल साह्ब आपने पुर्ण कर दिया
सत्यानाश ही नही सवासत्यानाश होगा। आभार

sunilkaushal ने कहा…
on 

क्या यार अपने वालों के पीछे पड़ गये ? जय हो

शरद कोकास ने कहा…
on 

देश का नेता कैसा हो ..नारे का विस्तार आज मालूम हुआ ।

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)