शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

कौन था यह?

गैंती की मार से
एक ढेला मिटटी उखड़ती
मिटटी नही लेट्र्रा था वह
कमर झुक कर कमान हो रही थी
माथे पर पसीने की बुँदे चूह रही थी
तभी फ़िर गैंती की मार से
एक ढेला लेट्र्रा उखाड़ता
उसे रांपा से चरिहा में भरता
बुधियारिन के माथे पर धरता
एक गोदी माटी वह कोड़ता
नई श्रृष्टि रचता
भाषण और नारों से दूर
चूल्हे पर हंडिया में भात चुरती वह
सबको खिला कर लांघन रह जाती वह
फ़िर भी दुगने ताकत से चरिहा उठती वह
आज के लांघन से बचने के लिए
उसकी गैंती की धमक से
धरती हिलती, 
ब्रह्माण्ड हिलता
उसकी बाँहों के बल से
नई सुबह,नया उजाला
उससे दूर था ,
कौन था यह?
मेरे देश कर्मरत
मजदूर था

आपका
शिल्पकार

शब्दार्थ
गैंती = कुदाली
लेट्र्रा-लाल कड़ी मिटटी
रांपा=फावडा
चरिहा=मिटटी उठाने की टोकनी
चुरती= बनती
लांघन=भूखी/भूखा

(फोटो गूगल से साभार)

Comments :

13 टिप्पणियाँ to “कौन था यह?”
Ratan Singh Shekhawat ने कहा…
on 

श्रम व श्रमिक की बढ़िया महत्ता समझाई है |

ललित शर्मा ने कहा…
on 

धन्यवाद रतन सिंग जी,ये कविता छत्तिसगढी कलेवर मे गढी गयी है,आप पुन: आयें आपका स्वागत है,

sunilkaushal ने कहा…
on 

ललित भाई एक मजदुर के दर्द को आपने अपनी कविता मे ढाला है,बहुत-बहुत शुभकामनाएं,छत्तिसगढ संवाद की तरफ़ से बधाई

dev ने कहा…
on 

lalit bhaiyaa, subah-subah aapki majdoron ko samrpit kavita padhane mili aapko bahut-bahut badhai

udaychadra ने कहा…
on 

ललित भैया स्वागत है,बधाई हो,आज कल तो काफ़ी धाँसु कविता का कार्य क्रम चल रहा है, शुभ कामना

ललित शर्मा ने कहा…
on 

dhanyavad sunil bhai,aap isi tarah utsah badhate rhen,

ललित शर्मा ने कहा…
on 

dhanyavad uday ji aapko bhi meri shubhkamnayen

ललित शर्मा ने कहा…
on 

dhanyavad dev ji aapka svagat hai,

जी.एल. शर्मा ने कहा…
on 

नई सुबह,नया उजाला
उससे दूर था ,
कौन था यह?
मेरे देश कर्मरत
मजदूर था

bahut badhiya,badhaai

Anil Pusadkar ने कहा…
on 

किसानों,मज़दूरों की स्थिती को समझने और जानने वाले अब रह कितने गयें है ललित बाबू।बहुत अच्छा लिखा है आपने।

ललित शर्मा ने कहा…
on 

कोई तो समझेगा?आज अनाज इतना महँगा हो गया है कि नई समझने वालों को भी समझना होगा, ये ही एक सामान है जो फ़ैक्ट्रीयों मे नही पैदा होता, धरती पर ही उगता है,कुछ दिनो बाद इससे भी बुरे दिन आने वाले हैं। धन्य्वाद अनील भैया

ललित शर्मा ने कहा…
on 

आपको भी शुभकामनाए।

रंजना ने कहा…
on 

निराला जी की कविता का स्मरण हो आया आपकी इस रचना को पढ़कर.....क्या खूब लिखा है आपने....पीडा और त्रासदी को शब्दों में जीवंत और अमर कर दिया आपने...

इस अप्रतिम अद्वितीय रचना के लिए आपका साधुवाद...

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)