शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

अंधियारे को दूर भगा कर एक दीप नेह का धर दो


दीप
जलाओगे तुम
उजियारे को न्योत
अंधियारे को दूर करोगे
गुनगुनाओगे
अपने मन में खुशियों के राग
गुनगुनाओ 
लेकिन 
जीवन का यह सत्य भी देखो
दीपों की कतार में अँधेरे तले
ऊंची ईमारतों की झोंपडियों तले
किसी राधा का रुदन सुनो
किसी पीडित मंगलू की व्यथा सुनो
क्यों अँधेरे में है उनकी दुनिया?
इनकी भी कुछ कथा सुनो
जीवन के जले उपवन का 
दर्द भरा गान सुनो
क्या बन सकोगे?
तुम उनकी एक आशा
तो आओ आशा के क़दमों 
की आहट बन कर
सारी दुनिया जग-मग कर दो
अंधियारे को दूर भगा कर
एक दीप नेह का धर दो
निर्धन-निर्बल की आहों को तुम
उजास की किरणों से आलोकित कर दो
तुम जीवन की रीत बदल दो
कर दो शंखनाद तुम
तम के विरुद्ध युद्ध का
अपने संकल्प से 
बंधन खोल दो
आज पीड़ित निरुद्ध का
तभी दीपोत्सव सार्थक होगा
नया सवेरा
कराहती मानवता का 
संबल बनकर आये
आओ हम सब 
अँधेरी झोपडियों में भी
दीप जलाएं
तम को दूर करें
दीपोत्सव मनाएं 


आपका
शिल्पकार
(फोटो गूगल से साभार)




Comments :

13 टिप्पणियाँ to “अंधियारे को दूर भगा कर एक दीप नेह का धर दो”
श्यामल सुमन ने कहा…
on 

सुन्दर भाव की पंक्तियाँ।

जगमग दीप जले घर आँगन आपस में हो प्यार।
चाह सुमन की घर घर खुशियाँ नित नूतन संसार।।

सादर
श्यामल सुमन
www.manoramsuman.blogspot.com

Udan Tashtari ने कहा…
on 

बहुत उम्दा कलाम!! वाह!

सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

-समीर लाल 'समीर'

ललित शर्मा ने कहा…
on 

सुखे खेतो भी भगवन फ़िर से हरियाली आये
मुरझाये चेहरों पर भगवन फ़िर स खुशहाली आये
धन-धान्य,उजियारा,वैभवता आये सबके आंगन मे
दुर हो कलुष जीवन के ऐसी हम दिवाली मनायें

समीर जी आपको दीपावली की कोटिश बधाई

ललित शर्मा ने कहा…
on 

नामारुप खिलता रहे आपका परिवार
चंहु दिशि फ़ैले आंगन मे सदा उजियार
खील पताशे मिठाई और धुम धड़ाके से
हिल-मिल मनाएं दीवाली का त्यौहार

शुभकामनाएं

M VERMA ने कहा…
on 

बहुत सुन्दर भाव व सन्देश
दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएँ

ललित शर्मा ने कहा…
on 

भाई वर्मा जी,शुभकामनायें

आपका घर आंगन नित धन-धान्य से भरा रहे
माँ लक्ष्मी की कृपा आप पर सदा बनी रहे

sunilkaushal ने कहा…
on 

ललित भाई देवारी के गाड़ा-ग़ाड़ा बधैइ,
सुरहुती तिहार के घला। हमर जम्मो परिवार डहर ले।

जी.एल. शर्मा ने कहा…
on 

ललित भैया दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएँ
ढेर सारी खुशियाँ बांटे और दिवाली मनाएँ

ललित शर्मा ने कहा…
on 

सु्नील भाई आपके सारे परिवार को मेरी हार्दिक शुभकामनाएँ, दीप पर्व की बधाई।

ललित शर्मा ने कहा…
on 

शर्मा जी आपको सपरिवार दीप पर्व की बधाई

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari ने कहा…
on 

आपको भी दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनांए.

संगीता पुरी ने कहा…
on 

अच्‍छे भाव युक्‍त रचना !!
पल पल सुनहरे फूल खिले , कभी न हो कांटों का सामना !
जिंदगी आपकी खुशियों से भरी रहे , दीपावली पर हमारी यही शुभकामना !!

परमजीत बाली ने कहा…
on 

बहुत सुन्दर रचना है।बधाई।
आपको दीपावली की हार्दिक शुभकामनांए.

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)