शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

हाँ ! मैं वही अहिल्या हूँ-हाँ ! मैं वही अहिल्या हूँ


देखो!तुम मुझे देखो
तुमने मुझे क्या दिया ?
एक पूनम की रात को 
अमावश बना दिया
 एक जिन्दा लाश बना दिया
अब ये पलके झपकती नही
नैनों में नीर है
पर झरता नहीं
कदमो को चलने का संबल देती हूँ
पर वो चलते नहीं 
नयन शुन्य में तलाश करते हैं
त्तुम्हे अनवरत/कहाँ हो तुम
हाँ मै एक जिन्दा लाश हूँ
सदियों से ये आँखें
तुम्हारी बाट देखती हैं
देखो इन बिखरे हुए कुन्तलों को
संवारना चाहती हूँ मैं
ये कांपते हुए अधर कुछ
कहना चाहते हैं तुमसे
सिर्फ  मै ही दोषी नहीं हूँ
उस दिन की
तुम भी थे सहभागी
फिर क्यों?
फिर क्यों? सिर्फ मुझे
शापित शिला बना दिया
हाँ!मैं ही वो तुम्हारी
हाँ!वो ही हूँ मै सुमुखी
जिसे तुमने त्याग दिया
अपने अहम की 
तुष्टि के लिए
पूछते हो मै कौन हूँ?
तुम! पूछते हो मै कौन हूँ ?
अब मुझे भी भूल गए ?
हाँ ! मैं वही अहिल्या हूँ
हाँ ! मैं वही अहिल्या हूँ
आज मै तुम्हे शाप देती हूँ !!!!!!!
आज मै तुम्हे शाप देती हूँ !!!!!!!!!!!!!!!
आपका
शिल्पकार

(फोटो गूगल से साभार)

Comments :

15 टिप्पणियाँ to “हाँ ! मैं वही अहिल्या हूँ-हाँ ! मैं वही अहिल्या हूँ”
Rakesh Singh - राकेश सिंह ने कहा…
on 

अहिल्या का दर्द बयां करती सुन्दर कविता ...

lalit sharma ने कहा…
on 

dhanyvad rakesh ji,aapka sneh hi hamari axay punji hai,aate rahiye

वाणी गीत ने कहा…
on 

अहिल्या का दर्द और व्यथा खूब
बयान हो रही है ...!!

lalit sharma ने कहा…
on 

धन्यवाद वाणी गीत जी,आपने अहिल्या के दर्द को समझा,आपका स्वागत है,

sunilkaushal ने कहा…
on 

ये कांपते हुए अधर कुछ
कहना चाहते हैं तुमसे
सिर्फ मै ही दोषी नहीं हूँ
उस दिन की
तुम भी थे सहभागी
फिर क्यों?
फिर क्यों? सिर्फ मुझे
शापित शिला बना दिया
बहुत दर्द है माता अहिल्या के ह्रदय मे,
बहुत सुन्दर ढँग से उकेरा है आपने

school ने कहा…
on 

त्तुम्हे अनवरत/कहाँ हो तुम
हाँ मै एक जिन्दा लाश हूँ
सदियों से ये आँखें
तुम्हारी बाट देखती हैं
देखो इन बिखरे हुए कुन्तलों को
संवारना चाहती हूँ मैं

बहुत ही सुन्दर भाव है

dev ने कहा…
on 

पूछते हो मै कौन हूँ?
तुम! पूछते हो मै कौन हूँ ?
अब मुझे भी भूल गए ?
हाँ ! मैं वही अहिल्या हूँ
हाँ ! मैं वही अहिल्या हूँ

अहिल्या का आक्रोश इन पंक्तियों मे झलकता है
बधाई

lalit sharma ने कहा…
on 

धन्यवाद सुनील कौशल जी,आपने अहिल्या के दर्द को समझा,आपका स्वागत है,

lalit sharma ने कहा…
on 

धन्यवाद मास्टर जी,आपने अहिल्या के दर्द को समझा,आपका स्वागत है,

lalit sharma ने कहा…
on 

धन्यवाद देव जी,आपने अहिल्या के दर्द को समझा,आपका स्वागत है,

Alpana ने कहा…
on 

murjhayi hui aankhion mein sunhara khaob dekha tha jise poora karne ek blog dekha tha
chand se uski chandni choorane ka khaob dekha tha chakoor ki tarah bebas ek albas dekha tha
ek hasrat thi khaoobon ko hakikat mein badalne ki armaan,armaan hakikat ke parwan chadte dekha tha.

ARVIND ने कहा…
on 

koi shaks is duniya mein bedil ban kar nahi aata
chetan ho ya ki jad ho pyar hi hai usko bhata
pyar ki khatir hi aahilya ne sahe har julmwar
par nafrat naagfani si bani uske jivan ka hissar

lalit sharma ने कहा…
on 

arvind ji aap bhi kavita kahte hain hame malum na tha,par jiske hriday me payar janam lekar palta fulta hai avashya hi vo kavit kahta hai, aapka svagat hai

lalit sharma ने कहा…
on 

alpna ji aapka bhi svagat hai shilpkar ki dyodhi par,aapne bhi bahut achchhi bat kahi hai,dhanyavad,

Suman ने कहा…
on 

aapaka Swagat hai nice .

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)