शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

मांझी हूँ मुझे बस कोई पतवार चाहिए,२२ साल पुरानी ग़ज़ल

मित्रों! काफी दिनों पहले लिखी हुई ग़ज़ल है, लग-भग २२ साल हो गये होंगे मुझे अभी दीवाली के सफाई कार्यक्रम में मिल गई जिसे हमारे बड़े भाई गिरीश पंकज जी ने संवारा है वही ग़ज़ल आज आपके लिए प्रस्तुत कर रहा हूँ,आशा है पसंद आएगी.  



वक्त को  रुकने  का  इक   आधार  चाहिए
मांझी  हूँ  मुझे  बस  कोई पतवार चाहिए

झुलसा  है  मन  मेरा ज़माने की आग से
अब   प्यार  की   ठंडी  इसे फुहार चाहिए

बेगानी   दुनिया   में  अपनों  की है तलाश
सीने  से  जो  लगे मुझे  वह  प्यार  चाहिए

चिंगारियां है इश्क की अब तो सुलग रही
जो  तोड़  दे  सीमा  को वही ज्वार चाहिए


अबके  फिजां  में वैसी रौनक  नहीं मिली

अरमां   को   जगा दे   वो  बहार   चाहिए

मरने   के  बाद  यारों  अर्थी  को मेरे कोई
मंजिल  तक  ले  जाये वही कहार चाहिए 


आपका
शिल्पकार 


(फोटो गूगल से साभार)

Comments :

6 टिप्पणियाँ to “मांझी हूँ मुझे बस कोई पतवार चाहिए,२२ साल पुरानी ग़ज़ल”
M VERMA ने कहा…
on 

झुलसा है मन मेरा ज़माने की आग से
अब प्यार की ठंडी इसे फुहार चाहिए
बहुत खूबसूरत गजल. हर शेर उम्दा

पी.सी.गोदियाल ने कहा…
on 

बेगानी दुनिया में अपनों की है तलाश
सीने से जो लगे मुझे वह प्यार चाहिए

मरने के बाद यारों अर्थी को मेरे कोई
मंजिल तक ले जाये वही कहार चाहिए

बहुत सुन्दर जज्बात शर्मा जी !

अर्कजेश ने कहा…
on 

मांझी हूँ मुझे बस कोई पतवार चाहिए


बेगानी दुनिया में अपनों की है तलाश
सीने से जो लगे मुझे वह प्यार चाहिए


बहुत खूब ! क्य बात है !

अर्कजेश ने कहा…
on 

मांझी हूँ मुझे बस कोई पतवार चाहिए


बेगानी दुनिया में अपनों की है तलाश
सीने से जो लगे मुझे वह प्यार चाहिए


बहुत खूब ! क्य बात है !

संगीता पुरी ने कहा…
on 

वाह सुंदर रचना है !!

john ने कहा…
on 

wow..you have an awesome collection of poems..do check out
www.simplypoet.com
a place to read,cooment and interact with poets/writers
it's the world's first multi-lingual portal!!

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)