शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

कह गए नयन मेरे


ढूंढ़ते हैं 

तुझको
अरसे से
नयन मेरे 
तेरे जाने से
तुझे देखने
बहुत तरसे हैं
नयन मेरे
हर पल 
सावन से
अनवरत 
बहुत बरसे हैं
नयन मेरे
नहीं चैन
एक पल भी
व्याकुल थे
नयन मेरे
उस दिन 
जब तुम आई
तो मारे ख़ुशी के
छलक उठे 
नयन मेरे
ठहरा वक्त 
सिहर उठा मै
जब दिखे 
नयन तेरे
कुछ कहने को
तरसे अधर मेरे
ना अधर खुले
ना संवाद हुआ
जो कुछ
कहना था
कह गए 
नयन मेरे


आपका
शिल्पकार


(फोटो गूगल से साभार)

Comments :

11 टिप्पणियाँ to “कह गए नयन मेरे”
seema gupta ने कहा…
on 

बेहद ही भावुक अभिव्यक्ति सुन्दर

regards

वाणी गीत ने कहा…
on 

नयनों के सुनते सुनते अच्छी कविता
बन ही गयी ..!!

ललित शर्मा ने कहा…
on 

@सीमा गुप्ता जी उत्साह वर्धन हेतु धन्यवाद, स्नेह बनाए रखें-आभार

ललित शर्मा ने कहा…
on 

@वाणी गीत जी उत्साह वर्धन हेतु धन्यवाद, स्नेह बनाए रखें-आभार

पी.सी.गोदियाल ने कहा…
on 

सुन्दर अभिव्यक्ति !

ललित शर्मा ने कहा…
on 

धन्यवाद @पी.सी.गोदियालजी उत्साह वर्धन हेतु , स्नेह बनाए रखें-आभार

mehek ने कहा…
on 

behad khubsurat nazm,manbhawan.

Anil Pusadkar ने कहा…
on 

बहुत बढिया ललित बाबू,मगर ये सावन मे अनवरत वर्षा आजकल होती कंहा है,हा हा हा हा।क्या बात बदलते मौसम ने रोमांटिक कर दिया है क्या?

sada ने कहा…
on 

बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द संयोजन, भावमय प्रस्‍तुति, के लिये बधाई ।

M VERMA ने कहा…
on 

ना अधर खुले

ना संवाद हुआ

जो कुछ

कहना था

कह गए

नयन मेरे
अभिव्यक्ति की जुबान है नयन

SP Dubey ने कहा…
on 

मन के द्वार खुले हो तो ह्रिदय रस से सराबोर हो कर नयनो मे छलकने लगता है और सुन्दर कविता अभिव्यक्त हो गयी…………
पढ कर अच्छा लगा

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)