शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

देखो मेरा गांव



हरियाली के चादर ओढे, देखो मेरा सारा गांव ,


झूम के बरसी बरखा रानी,थिरक उठे हैं पांव,


मेरे थिरक उठे हैं पांव,


खेतों में है हल चल रहे, बूढे पीपल पर हरियाली,


अल्हड बालाओं ने भी, डाली पींगे सावन वाली,


गोरैया के संग-संग मै भी, अपने पर फैलाऊ,


मेरे थिरक उठे हैं पांव,


छानी पर फूलों की बेले,बेलों पर बेले ही बेले,


नवयोवना सरिता पर भी हैं,लहरों के रेले ही रेले,


हमको है ये पर कराती, एक मांझी की नाव,


मेरे थिरक उठे हैं पांव,


भरे हैं सब ताल-तलैया,झूमी है अब धरती मैया,


मेघों ने भी डाला डेरा, छुप गए हैं अब सूरज भैया,


गाय-बैल सब घूम-ग़म कर,बैठे अपनी ठांव,


देखो मेरा सारा गांव,मेरे थिरक उठे हैं पांव।



आपका


शिल्पकार


( चित्र गूगल से साभार)

Comments :

2 टिप्पणियाँ to “देखो मेरा गांव”
Dr Satyajit Sahu ने कहा…
on 

VERY BEAUTIFUL POEM AND NICE ARTICAL. CONGRATS TO THE WRITER

S.M.HABIB ने कहा…
on 

जोरदार गीत हवे...
saadar...

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)