शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

पत्थर तोड़ना ही मेरी किस्मत में लिखा था

पत्थर ढोना ही मेरी किस्मत में लिखा था

पहाड़ तोड़ना ही मेरी किस्मत में लिखा था



पत्थरों को तराश कर उसके बुत बनाये मेने

भूखे पेट मरना ही मेरी किस्मत में लिखा था



बहुत कोडे बरसाए थे उसने मेरी पीठ पर

जख्मो का दर्द ही मेरी किस्मत में लिखा था



पहाडों को तोड़ कर उनके लिए महल बनाये हैं मैंने

दीवारों में चुना जाना मेरी किस्मत में लिखा था



शाहकार बनने पर वे कटवा देंगे मेरे दोनों हाथ

उनका येही इनाम मेरी किस्मत में लिखा था



आपका

शिल्पकार



(फोटो गूगल से साभार)





















Comments :

3 टिप्पणियाँ to “पत्थर तोड़ना ही मेरी किस्मत में लिखा था”
Dr Satyajit Sahu ने कहा…
on 

BAHUT PYARI KAVITA HAI. YE DIL SE NIKALI HAI AUR SIDHE DIL TAK JATI HAI. BADAI............

अविनाश वाचस्पति ने कहा…
on 

पत्‍थरों से करके यारी होशियारी
क्‍यों डरते हो जब चलती है आरी

ravikumarswarnkar ने कहा…
on 

उम्दा रचना...बधाई...
किस्मत का खेल मुझे पसंद नहीं आता...इसलिए इसे आगे बढ़ाने की गुस्ताखी कर रहा हूं...अपने भाव जोड़ रहा हूं..

उनकी किस्मत निर्भर है मेरी हर ज़ुंबिश पर
कहते है यह भी मेरी किस्मत में लिखा था

चिलकते पसीने की बूंदे उठाती हैं यह सवाल
क्यूं हर बार यही मेरी किस्मत में लिखा था

किस्मत को परे छोड़ अब निकलेंगी मुट्ठियां
बदलेगा यह जहां, मेरी किस्मत में लिखा था

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)