शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

शहर उसका रंग ले गये

कुंए से पानी भरती
जुगरी को देखता था मैं
बचपन से /उसके पीछे
दौड़ता चला जाता था मै
निरंतरता का पैमाना थी वह
भैंस की सानी व दूध से लेकर
पीसने तक
जग्गू के खाने कपड़े से लेकर
सुक्खी के स्कूल जाने तक
चलती रहती वह
महामाया थी वह /माँ थी वह
उपलों की थाप की लय से
सरकंडों की तान तक
उसकी नौगजी मुस्कान
तनी रहती थी
कभी न थकती थी वह
मैं हमेशा उसका हमसाया
बना रहता
नींद से उठ कर
मन्दिर की आरती से लेकर
शाम के भजनों तक
मैं पढने चला गया
गांव पहुचने पर जुगरी मिली
एक लंबे समय के बाद
मैं पहचान नही सका
काले बाल
धूसर हो गए थे
लटें उलझी हुई थी
वह मुझे मिली कुंए पर ही
मेरे जाने के बाद
जग्गू शहर चला गया था
उसकी राह में
पथरा गई थी
बावली हो गयी थी वह
जब उसे सुक्खी का
कफ़न मांगना पड़ा
शहर उसका रंग ले गये
फ़िर भी जुगरी चल रही है
आज भी
निरंतर/अनवरत
भैंस की सानी से
कुंए की जगत तक



आपका
शिल्पकार

(फोटो गूगल से साभार)

Comments :

1
संध्या शर्मा ने कहा…
on 

शहर उसका रंग ले गये
फ़िर भी
जुगरी चल रही है
आज भीनिरंतर/अनवरत
अद्भुत भाव... नमन आपकी भावनाओं और कलम को...

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)