शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

अरि दल बल थर्रा उठता था!!

भारत की वीरांगनाओं के पुरुषोचित कार्यों से पूरा इतिहास भरा पड़ा है. वक्त आने पर उन्होंने तलवारें भी उठाई और बड़ी बड़ी राज सत्ताओं को चुनौती दी, मुसीबतों का डट कर सामना किया उनसे लोहा लिया. कवि प्रकाश वीर "व्याकुल" वर्त्तमान समय में आधुनिकता की आंधी में बह रही हमारी संस्कृति की दुर्दशा को देखेते हुए अपनी चिंता व्यक्त करते हैं.

अरि दल बल थर्रा उठता था सुनकर जिनकी हुंकारों को
योद्धा रण छोड़ भाग जाते थे लख जिनकी तलवारों  को
वो  करना  सीखी  सहन  नही  द्रोही  के  अत्याचारों  को 
पतिव्रता धर्म पर अटल रही हंस कर चूमा  अंगारों  को 
वो  भी  श्रृंगार  बनाती  थी  पर कमर  कटारी कसी हुयी
ईश्वर  की  पावन भक्ति थी जिनकी रग-रग में बसी हुयी
उनकी  संताने  अरे  आज  कितनी फैशन में फंसी हुयी
अथवा  विलासिता  के कीचड़ में बुरी तरह से धंसी हुयी 
वो क्या से क्या हो गई आज जब उनकी ओर लखाता हूँ
मैं तब व्याकुल हो जाता हूँ.

प्रस्तुतकर्ता 
शिल्पकार


Comments :

12 टिप्पणियाँ to “अरि दल बल थर्रा उठता था!!”
खुशदीप सहगल ने कहा…
on 

इसीलिए व्याकुल महाराज आपको स्वामी ललितानंद बनाकर आश्रम भेज दिया गया है...

जय हिंद...

राजीव तनेजा ने कहा…
on 

अच्छी कविता पढवाने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद

निर्मला कपिला ने कहा…
on 

उनकी संताने अरे आज कितनी फैशन में फंसी हुयी
अथवा विलासिता के कीचड़ में बुरी तरह से धंसी हुयी
वो क्या से क्या हो गई आज जब उनकी ओर लखाता हूँ
मैं तब व्याकुल हो जाता हूँ.

बहुत ही सुन्दर सटीक अभिव्यक्ति है बधाई

जी.के. अवधिया ने कहा…
on 

महराज, अब व्याकुल होना छोड़ कर कुछ ऐसा काम करिये कि सब कुछ फिर से सुधर जाये!

ताऊ रामपुरिया ने कहा…
on 

जरा अवधिया जी की बात पर ध्यान दिया जाये.

रामराम.

गिरीश पंकज ने कहा…
on 

प्रकाशवीर "व्याकुल" ji ki kavitaye dekhi. achchha laga ki nai kavita ke is daur me bhi kuchh log chhand-saadhanakar rahe hai aur behatar likh rahe hai. प्रकाश वीर "व्याकुल" kahaan rahate hai...?

गिरीश पंकज ने कहा…
on 

kahi aisa to nahi ki lalit sharma hi प्रकाश वीर "व्याकुल" hain..? lalit ki kalaakaree ka bhi to zavab nahi hota, isliye....

राज भाटिय़ा ने कहा…
on 

उनकी संताने अरे आज कितनी फैशन में फंसी हुयी
अथवा विलासिता के कीचड़ में बुरी तरह से धंसी हुयी
बहुत सुंदर रचना लिखी, लेकिन हम जेसे लोग ही व्याकूल होते है ओर यह संताने जिन परिवार की है वो तो बहुत खुश होते है
धन्यवाद

M VERMA ने कहा…
on 

व्याकुलता का कारण सही है
अच्छी रचना

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…
on 

कवि प्रकाशवीर व्याकुल की तो इस नाम से पुस्तक भी मेरे पास है।
बढ़िया रचना है!

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…
on 

बहुत सही चिन्ता है व्याकुल जी की.

Udan Tashtari ने कहा…
on 

सही कहा...कोई भी व्याकुल हो जायेगा..

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)