शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

यही दुनिया और संसार है-अलविदा 2009

नास्तिक हो या आस्तिक सभी उस परम सत्ता को मानते हैं. अस्ति और नास्ति, है या नहीं है. नास्तिक कहता है नहीं है और वह इस पर अटल है. मरने मरने पर उतारू है. आस्तिक कहता है वह है और वह भी अपने कथन पर अटल है और मरने मारने पर उतारू है. नास्तिक नहीं है पर अगाध विश्वास करता है. नास्तिक "नहीं है" को मान रहा है. आस्तिक "वह है" को मान रहा है. दोनों अटल हैं और दोनों मान रहे हैं. यही दुनिया और संसार है. अपने अपने तरीके से परम सत्ता को स्वीकार कर रहे हैं. मैं भी स्वीकार करता हूँ वह परम सत्ता हमारे साथ किसी ना किसी रूप में विद्यमान है. "वह है" और "नहीं है' के रूप में. आज मैं एक भजन सरीखा आत्म चिंतन का गीत आपके लिए लाया हूँ. आओ इस २००९ के अंतिम दिन हम उस प्रभु का स्मरण किसी ना किसी रूप में कर लें. और उसके प्रति कृतज्ञता प्रकट कर लें. यही मेरी अभिलाषा है.

भेजा  है  क्यों भगवन तुने अपने इस संसार में
हाथ जोड़ चितन करता हूँ, खड़ा हुआ दरबार में


लक्ष्य कहाँ है?मेरा भगवन अब तक ढूंढ़ ना पाया हूँ
मैं  कौन हूँ?  बड़ा  प्रश्न  है,  पास  तेरे  मैं  आया  हूँ 
तृष्णा के   वन   में   भटका,  डूबा  रहा  श्रृंगार  में 
हाथ  जोड़  चितन  करता  हूँ,  खड़ा हुआ दरबार में


अक्षर  ब्रह्म  तो  तुने  दिया,  पर  रचना  ना कर पाया
साज श्रृंगार तो सब किया, पर सजना ना बन पाया
दूर  करो दुर्बुद्धि  सब  तुम,  सदगुण  भरो  विचार में 
हाथ  जोड़  चितन  करता  हूँ,  खड़ा  हुआ  दरबार  में


चेतन  मन  तो  नहीं हुआ है, चारों ओर मोह माया है
मनुज-मनुज  में भेद  हुआ है, अंधकार सब छाया है.
दूर  करो  कलुष  जीवन  के,  लगे  मन  सहकार  में 
हाथ जोड़  चितन  करता  हूँ,  खड़ा  हुआ  दरबार  में


होवे प्रीत सभी प्राणी में, मन में करुणा भर दो तुम
भटका  हुआ राही  हूँ मै, सच की राह दिखा दो तुम 
प्रचंड  प्रकाश  का उदय  करो,  अंतर के अंधकार में
हाथ  जोड़  चितन करता  हूँ,  खड़ा  हुआ  दरबार में


भेजा  है  क्यों  भगवन  तुने  अपने  इस  संसार में
हाथ जोड़ चितन करता  हूँ,  खड़ा  हुआ  दरबार  में


सभी को नूतन वर्ष 2010 की अशेष शुभकामनायें 


आपका 
शिल्पकार

Comments :

17 टिप्पणियाँ to “यही दुनिया और संसार है-अलविदा 2009”
Udan Tashtari ने कहा…
on 

भेजा है क्यों भगवन तुने अपने इस संसार में
हाथ जोड़ चितन करता हूँ, खड़ा हुआ दरबार में

-बड़ा दार्शनिक चिन्तन है!!


मुझसे किसी ने पूछा
तुम सबको टिप्पणियाँ देते रहते हो,
तुम्हें क्या मिलता है..
मैंने हंस कर कहा:
देना लेना तो व्यापार है..
जो देकर कुछ न मांगे
वो ही तो प्यार हैं.


नव वर्ष की बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ.

राजीव तनेजा ने कहा…
on 

दार्शनिक अन्दाज़ में लिखी गई एक खूबसूरत रचना....


आपको भी नव वर्ष की बहुत-बहुत शुभ कामनाएँ

जी.के. अवधिया ने कहा…
on 

"भेजा है क्यों भगवन तुने अपने इस संसार में"

सत्कर्म करने के लिये!

यह जन्म हुआ किस अर्थ अहो
समझो जिसमें यह व्यर्थ न हो
कुछ तो उपयुक्त करो तन को
नर हो, न निराश करो मन को


मैथिलीशरण गुप्त

ताऊ रामपुरिया ने कहा…
on 


भेजा है क्यों भगवन तुने अपने इस संसार में
हाथ जोड़ चितन करता हूँ, खड़ा हुआ दरबार में


जब जब भी हरयाणवीयों ने दार्शनिक चिंतन किया है तब तब क्रांति आई है. अब भी मुझे आसार अच्छे नही लग रहे हैं.

जय बाबा ढोसी वाले की.

नये साल की रामराम.

पी.सी.गोदियाल ने कहा…
on 

चेतन मन तो नहीं हुआ है, चारों ओर मोह माया है

मनुज-मनुज में भेद हुआ है, अंधकार सब छाया है.

दूर करो कलुष जीवन के, लगे मन सहकार में

हाथ जोड़ चितन करता हूँ, खड़ा हुआ दरबार में

बहुत खूब, लाजबाब ललित जी ! नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये !

महफूज़ अली ने कहा…
on 

होवे प्रीत सभी प्राणी में, मन में करुणा भर दो तुम
भटका हुआ राही हूँ मै, सच की राह दिखा दो तुम
प्रचंड प्रकाश का उदय करो, अंतर के अंधकार में
हाथ जोड़ चितन करता हूँ, खड़ा हुआ दरबार में


वाह! बहुत सुंदर पंक्तियों के साथ ...बेहतरीन अभिव्यक्ति.....





(NB:--भई.... आपने देखा होगा कि खेतों में....एक पुतला गाडा जाता है .... जिसका सर मटके का होता है... उस पर आँखें और मूंह बना होता है.... और दो हाथ फूस का..... वो इसलिए खेतों में होता है.... कि फसल जब पक जाती है ..... तो कोई जानवर-परिंदा डर के मारे न आये...... मैं शायद वही पुतला हूँ.... )

राज भाटिय़ा ने कहा…
on 

ललित भाई आप का चिंतन ओर भजन बहुत सुंदर लगा, आप की बात से सहमत हुं.
आप को ओर आप के परिवार को नववर्ष की बहुत बधाई एवं अनेक शुभकामनाएँ!

गिरीश पंकज ने कहा…
on 

pyara bhajan... aatm-manthan karane k liye vivash karati rachana...

'अदा' ने कहा…
on 

नववर्ष आपके और आपके समस्त परिवार के लिए मंगलमय हो ...
बहुत बहुत शुभकामनायें....!!!

समयचक्र ने कहा…
on 

हिंदी भाषा के प्रचार प्रसार में प्रभावी योगदान के लिए आभार
आपको और आपके परिजनों मित्रो को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये...

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…
on 

कठिन प्रश्न है.
नववर्ष की शुभकामनाएं!

मनोज कुमार ने कहा…
on 

एक बहुत अच्छी रचना के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद
आपको नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…
on 

भेजा है क्यों भगवन तुने अपने इस संसार में
हाथ जोड़ चितन करता हूँ, खड़ा हुआ दरबार में।।

अगर ऊपरवाले की तरफ से इस बात का कोई जवाब मिल जाए तो हमें भी जरूर बता देना :)
नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाऎ!!!!

Rekhaa Prahalad ने कहा…
on 

ललित भाई आप का भजन बहुत सुंदर लगा,
आप को ओर आप के परिवार को नववर्ष की अनेक शुभकामनाएँ!नववर्ष आपके और आपके समस्त परिवार के लिए मंगलमय हो.

Gagan Sharma, Kuchh Alag sa ने कहा…
on 

आपको और आपके सारे परिवार को आने वाला समय सुख, समृद्धि और स्वास्थ्य प्रदान करे।

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…
on 

प्रभावी चिंतन!

नया वर्ष हो सबको शुभ!

जाओ बीते वर्ष

नए वर्ष की नई सुबह में

महके हृदय तुम्हारा!

suryakant gupta ने कहा…
on 

सृष्टि का विधान जान जिन्दगी जीते जाइए
जीवन के आनंद का रस पीते जाइए
क्योंकि "बड़े भाग मानुष तन पावा"
हमारी ओर से भी नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)