शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

मैं तब व्याकुल हो जाता हूँ!!!

कवि प्रकाशवीर "व्याकुल" जी अपनी व्याकुलताओं का कारण बताते हुए क्या कहते हैं, ये मैं आपके समक्ष प्रस्तुत कर रहा हूँ.

दुर्भाग्य  देश  का उस दिन था बैठी जहाँ सभा सारी.
बैठे   थे  अंधे  धृतराष्ट्र   बैठे   थे  भीष्म   ब्रम्हचारी 
बैठे     द्रोणाचार्य       गुरु    बैठे    कौरव   नर-नारी 
और   सिंहासन  पर बैठा था वो दुर्योधन अत्याचारी 
बैठे थे कृष्ण भगवान वहीं प्रस्ताव संधि का सुना दिया 
मांगे  थे  केवल  पॉँच  गांव  पांडव  को इतना दबा दिया
हर तरह नीच को समझाया परिणाम युद्ध का जता दिया
उसने   सुई  की   नोक  बराबर  भी भूमि को मना किया 
इन  इतिहास  के  पन्नों  की मैं जब-जब खोज लगाता हूँ
मैं तब व्याकुल हो जाता हूँ.

एक  ओर  महात्मा राम दूसरी ओर भरत पंडित ज्ञानी
उनके  चरण  में  बनी  हुयी  थी  गेंद  राष्ट्र की राजधानी 
बिछड़ तात गए वन को भरत बिगड़ गई बात जब जानी
हो गया अधीर नयनों से नीर बहता कहता  था  ये  वाणी
जब तक मिलें नहीं राम नहीं आराम मुझे मै जाऊं वन को
सारे   कष्ट   हो   जाएँ  नष्ट  जब  पाउँगा  जीवन धन   को
चरणों में भ्रात के लिपट गया अर्पित करके निज जीवन को
ले  चरण  पादुका  फिर और नहीं छुआ तलक सिंहासन को
वो  प्यार  भ्रात  का  कहाँ  गया  जब  यह जानना चाहता हूँ
मै तब व्याकुल हो जाता हूँ.


प्रस्तुतकर्ता
शिल्पकार

 

Comments :

9 टिप्पणियाँ to “मैं तब व्याकुल हो जाता हूँ!!!”
जी.के. अवधिया ने कहा…
on 

सच! आपका व्याकुल होना जायज है!!

राज भाटिय़ा ने कहा…
on 

बहुत ही सुंदर ओर सच आप की व्याकुलता सही है.
इस सुंदर रचना के लिये धन्यवाद

ताऊ रामपुरिया ने कहा…
on 

बहुत सच है.

रामराम.

वन्दना ने कहा…
on 

bilkul sahi kaha.

www.SAMWAAD.com ने कहा…
on 

मन को छू गये भाव।
--------------
मानवता के नाम सलीम खान का पत्र।
इतनी आसान पहेली है, इसे तो आप बूझ ही लेंगे।

Kulwant Happy ने कहा…
on 

सबका यही हाल है। वैसे मैंने सुना आपकी असम एफएम पर धमाल है।

रंजना ने कहा…
on 

Kitni saralta se kitnee badi baat kah di gayi hai rachna me....

Don hi ghatnakram me sambandh ek hi se the..par paristhitiyan kitni bhinn thi...
Ek taraf do bhai jo rajy ko bhatriprem ke sammukh trinvat samajhte the...aur doosri taraf bhaai bhaai ka sabse bada shatru...

Udan Tashtari ने कहा…
on 

बहुत आनन्द आया कि वुआकुल हुआ जा रहा हूँ.

ललित शर्मा ने कहा…
on 

@रंजना जी, आपने दो युगों के परिवर्तनों को सही पहचाना, मै भी इसके माध्यम से यही बताना चाहता था। शुक्रिया

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)