शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

एक जून की रोटी को तरसा!!

दुनिया बनाई देखो उसने कितना वह भी मजबूर था
एक जून की रोटी को तरसा मेरे देश का मजदूर था


चंहु ओर हरियाली की  देखो एक चादर सी फैली है 
यही देखने खातिर उसने भूख धूप भी झेली है 
अपने लहू से सींचा धरा को वह भी बड़ा मगरूर था
एक जून की रोटी को तरसा मेरे देश का मजदूर था


महल किले गढ़े हैं उसने, बहुत ही बात निराली है
पसीने का मोल मिला ना पर खाई उसने गाली है 
सर छुपाने को छत नहीं है ये कैसा दस्तूर था
एक जून की रोटी को तरसा मेरे देश का मजदूर था


पैदा किया अनाज उसने, पूरी जवानी गंवाई थी
मरकर कफ़न नसीब न हुआ ये कैसी कमाई थी
अपना सब कुछ दे डाला था  दानी बड़ा जरूर था 
एक जून की रोटी को तरसा मेरे देश का मजदूर था

आपका
शिल्पकार

Comments :

13 टिप्पणियाँ to “एक जून की रोटी को तरसा!!”
Kusum Thakur ने कहा…
on 

किसान की स्थिति का बहुत अच्छा वर्णन !!

Kusum Thakur ने कहा…
on 
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Udan Tashtari ने कहा…
on 

एक तबके की मजबूरियों का चित्रण...अच्छा है.

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…
on 

सबको अन्न देने वाला किसान आज सही में एकदम मजबूर है और कहीं से कोई आवाज़ उसने पक्ष में उठती नही दिखाई देती है..मँहगाई ज़रूर बढ़ा रही है पर उनसे अनाज उसी दामों पर लिया जा रहा है...बहुत सही चित्रण...धन्यवाद ललित जी सोचनीय विषय हैज़ो आपने कविता के माध्यम से उठाई है..बहुत बहुत धन्यवाद..

पी.सी.गोदियाल ने कहा…
on 

पैदा किया अनाज उसने, पूरी जवानी गंवाई थी
मरकर कफ़न नसीब न हुआ ये कैसी कमाई थी
अपना सब कुछ दे डाला था दानी बड़ा जरूर था
एक जून की रोटी को तरसा मेरे देश का मजदूर था

बहुत ही सुन्दर शिल्पकार साहब ! सुन्दर चित्रण
अब थोड़ा सा मजाक कर लू ; जब आपकी रचना की हेडिंग अपने ब्लॉग के 'रीडिंग लिस्ट में पढी तो दिमाग में एक खुरापात सूझी की अभी जाकर ललित जी से कहता हूँ कि क्या हुआ अगर एक जून को आप रोटी के लिए तरस गए तो ? दो जून को मिल जायेगी, ऐसा थोड़े ही है कि भाभी जी इतने दिनों तक भूखा रखेंगी आपको :) खैर, उम्मीद है मजाक भाडा नहीं लगेगा आपको, बस ये भी दिल को हल्का करने के बहाने होते है !

पी.सी.गोदियाल ने कहा…
on 

ये लो 'भद्दे' शब्द की जगह 'भाडा' शब्द अंकित हो गया !

जी.के. अवधिया ने कहा…
on 

कहते हैं कि
विश्व का प्रसिद्ध स्मारक
ताजमहल
शाहजहाँ ने बनवाया था
पर क्या उसे बनाने के लिये
उसने एक ईंट भी उठाया था?
उल्टे
उसे बनाने वाले मजदूरों का
हाथ भी उसने कटवाया था
निष्कर्ष
मेहनत का फल मीठा नहीं
कड़ुवा होता है!

Anil Pusadkar ने कहा…
on 

जो मजबूर है वही तो मज़दूर है।जो जनता दुःखी है वही तो भूखी है और जनता को भूःखी रखने वाला ही इस देश मे सुखी है।

संगीता पुरी ने कहा…
on 

एक जून की रोटी को तरसा मेरे देश का मजदूर था
भरपूर संवेदना भरी है इस रचना में !!

ताऊ रामपुरिया ने कहा…
on 

अत्यंत मार्मिक अभिव्यक्ति.

रामराम.

मनोज कुमार ने कहा…
on 

पैदा किया अनाज उसने, पूरी जवानी गंवाई थी
मरकर कफ़न नसीब न हुआ ये कैसी कमाई थी
इस कविता की कोई बात अंदर ऐसी चुभ गई है कि उसकी टीस अभी तक महसूस कर रहा हूं।

राज भाटिय़ा ने कहा…
on 

बहुत दर्द है आप की इस कविता मै, बहुत अच्छी लगी
धन्यवाद

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…
on 

भारतीय किसान jiska har koi rini hota hai
wah bechara is desh me "karj" ke saath paida
hota hai karj me jeeta hai aur karj me hi mar jaata hai
yah hai desh ki vidambana.... bahut hi marmik rachna

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)