शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

फूलों का दर्द आंसुओं से नीचो कर इत्र बनता है.

कभी -कभी रंगों से खेलने का मन करता है. जब रंग-तुलिका और केनवास का मिलन होता है तो अन्दर बैठ चित्रकार जाग जाता है. और वह कुछ गढ़ने लगता है. ऐसा मेरे साथ होता है. जब तक मैं कुछ गढ़ नही लूँ तब तक मुझे आत्मिक शांति नहीं मिलती. सारा शरीर भारी-भारी लगता है.-जब कल्पना केनवास पर उतर जाती है तो अपने आप ही मुझे हल्का लगता है.एक  आत्मिक शांति का अनुभव होता है-एक चित्र आपके अवलोकनार्थ प्रस्तुत है-कृपया आशीष देकर उत्साह बढाये.

 फूलों  का  दर्द  आंसुओं से नीचो कर इत्र बनता है.
लाखों  में  कोई  एक हमदर्द अपना मित्र बनता है.
ग़ालिब की गजल मीरा का विरह रंगों में घोलकर 
कतरा  कतरा   रंगों  से  कोई  एक चित्र बनता है.

आपका 
शिल्पकार 


Comments :

4 टिप्पणियाँ to “फूलों का दर्द आंसुओं से नीचो कर इत्र बनता है.”
पी.सी.गोदियाल ने कहा…
on 

फूलों का दर्द आंसुओं से नीचो कर इत्र बनता है.

लाखों में कोई एक हमदर्द अपना मित्र बनता है.

ग़ालिब की गजल मीरा का विरह रंगों में घोलकर

कतरा कतरा रंगों से कोई एक चित्र बनता है.

Kya baat kahee shilpkaar sahaab !!

M VERMA ने कहा…
on 

बहुत सुन्दर
चित्रकार और शिल्पकार तथा साहित्यकार तीनो ही तो दिखाई दे रहे है.

शरद कोकास ने कहा…
on 

अब पता चला हुसैन एम एफ भारत क्यो नही आना चहते !!!

सुनीता शानू ने कहा…
on 

बहुत सुन्दर भाव हैं। आज ही पढ़ा आपको बहुत अच्छा लिखते हैं।

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)