शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

चंदू घर के अन्दर ही नगाड़े पीटने लग गया है.! होली है-भाई होली है "ललित शर्मा "

रसों होली है, नंगाड़ों की मधुर ताल वातावरण कों होली मय कर रही है. कल शाम कों हमारे घर में नगाड़ों की आवाज सुनाई दी. तबियत नासाज होने के कारण मैं सोया हुआ था. देखा तो चंदू घर के अन्दर ही नगाड़े पीटने लग गया है. भाई होली है......बच्चों बूढों सभी के मन में होली की उमंग रहती है. चंदू की बस एक ही जिद रहती है उसे नगाड़े चाहिए. दो चार दिन बजाकर फिर उसका विसर्जन कर डालता है. मतलब बजा-बजा कर फोड़ डालता है और होली पर नए नगाड़ों कों खरीदने का इंतजार करता है. आज सुबह ही उठ कर बिना नहाये धोये नगाड़े बजाने  में लगा हुआ है. देखिये आप भी.......मूड में होता है तो गाता भी है. लेकिन आज नहीं गा रहा था सिर्फ नगाड़े बजाने की ही धुन में लगा हुया है...........इसके साथ एक फाग भी प्रस्तुत है.......जो परम्पराओं के  खजाने से निकाला गया है.......लीजिये आनंद और मनाईये होली..


धीरे बहो नदिया धीरे बहो, धीरे बहो
धीरे बहो नदिया धीरे बहो
राधा जी उतरैं पार
नदिया धीरे बहो


काहेन के तोरे नाव-नउलिया काहेन के पतवार
कौन है तोरे नाव खिवैया कौने उतरै पार
नदिया धीरे बहो


अगर-चंदन के नाव-नउलिया सोनेन के पतवार
कृष्णचन्द्र हैं नाव खिवैया राधा उतरै पार
नदिया धीरे बहो

आपका 
शिल्पकार

Comments :

15 टिप्पणियाँ to “चंदू घर के अन्दर ही नगाड़े पीटने लग गया है.! होली है-भाई होली है "ललित शर्मा "”
Mithilesh dubey ने कहा…
on 

ललित भईया होली का असली मजा आप ही ले रहे हैं ।

जी.के. अवधिया ने कहा…
on 

ललित जी,

यही तो वसन्त की विशेषता है कि बच्चों से लेकर बूढ़ों तक में जोश और उत्साह भर जाता है। वहाँ चंदू नगाड़े बजा रहा है और अपने यहाँ हम भी फाग गा रहे हैं

रसिक हृदय आनन्द करन हित
राग फाग के गाऊँ रे लाल।
प्रथम गणेश मनाऊँ रे लाल॥

वन्दना ने कहा…
on 

waah ........aanand aa gaya.

महफूज़ अली ने कहा…
on 

होली है-भाई होली है.......

PADMSINGH ने कहा…
on 

होलिया में उड़े से गुलाल
कहियो रे मंगेतर से ....
होली है भाई/भौजी होली है

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…
on 

होली की घणी घणी मुबारकबाद!!

ताऊ रामपुरिया ने कहा…
on 

बहुत शानदार रचना. होली की शुभकामनाएं.

रामराम.

M VERMA ने कहा…
on 

चन्दू को और आपको होली की हार्दिक बधाई

निर्मला कपिला ने कहा…
on 

वाह । होली की बहुत बहुत बधाई

RaniVishal ने कहा…
on 

Bahut Bhadiya...Holi ki Shubhkaamanaae!!
Saadar

देवेश प्रताप ने कहा…
on 

bahut khoob ....holi ki dher sari subhkamnayen

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…
on 

होली की बधाई स्वीकार करें!

राज भाटिय़ा ने कहा…
on 

बहुत सुंदर जी, हम तो यहां होली खेले भी तो केसे ना गुलाल है, ना ही रंग ओर् मोसम भी हद से ज्यादा ठण्डा, चन्दू को बोले की एक बार जोर दार नगाडा ह्मारी तरफ़ से भी बजा ले.
धन्यवाद

Udan Tashtari ने कहा…
on 

भरपूर मस्ती!!! :)


आप एवं आपके परिवार को होली मुबारक.

sohankumar ने कहा…
on 

bahut accha

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)