शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

खोया बचपन

कंचे,लट्टू,गुल्ली-डंडा,पुराना बक्सा खोल रहा हूँ।
खोया बचपन ढूंढ रहा हूँ,मैं बचपन ढूंढ रहा हूँ॥

राजा-रानी, परियों की, कहानी खूब सुनाती थी।
खोयी ममता ढूंढ रहा हूँ,मैं बचपन ढूंढ रहा हूँ॥

लड्डू-पेड़े,खाई-खजाना,मुझको खूब खिलाती थी।
तेरे आंचल की छाया में, मैं बचपन ढूंढ रहा हूँ।।

करता जब धमा-चौकड़ी,मार से तुम बचाती थी।
तुम्हारी यादों में घर कर,मैं बचपन ढूंढ रहा हूँ।।

कभी न करुंगा उधम, कान पकड़ बोल रहा हूँ।
खोया बचपन ढूंढ रहा हूँ, मैं बचपन ढूंढ रहा हूँ॥


शिल्पकार

Comments :

12 टिप्पणियाँ to “खोया बचपन”
गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…
on 

आया है मुझे फिर याद वो जालिम, गुजरा जमाना बचपन का

निर्मला कपिला ने कहा…
on 

माँ से सुनी बचपन की कहानी
कहती थी जो उसके4ए नानाएए
क्या होता है बचपन ऐसा
उडती फिरती तितली जैसा
हम को भी बतलाओ न
नानी जल्दी आओ ना
अब कहाँ है वो बचपन। अच्छी रचना

दर्शन कौर धनोए ने कहा…
on 

"क्यों याद आता हैं वो बचपन सुहाना
वो मीठी यादें वो हमारा खिल खिलाना
बात कहाँ अब उस जमाने की ,
अपनी ख़ुशी से आना,अपनी ख़ुशी से जाना "

क्या बात है ललित जी ......धन्यवाद !

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद ने कहा…
on 

मां का प्यार, दादी की परियों की कहानी, बाबा का ठिठोली करना.... क्या क्या खो जाता है बचपन के गोली, कंचों के साथ :(

kase kahun?by kavita verma ने कहा…
on 

bachapan ki dhoondh to pachapan se bhi aage tak jari rahti hai...bahut sunder...

Vivek Jain ने कहा…
on 

बहुत सुंदर,
विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

anu ने कहा…
on 

आपके साथ साथ हम भी बचपन की यादो में खो गए

Amrita Tanmay ने कहा…
on 

बेहद सुंदर

उपासना सियाग ने कहा…
on 

बचपन कहीं भी नहीं जाता ,बस हम सब में अंतर्मन में ही कहीं बसा होता है .......बहुत सुन्दर लिखा आपने

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…
on 

बचपन मुट्ठी से गि‍रता रेत है, लौटता कहां है

संध्या शर्मा ने कहा…
on 

ढूंढने की जरुरत तो तब होगी ना जब खो जायेगा, सामने ही है, बस रूप बदल लेता है बचपन... अभी देखना हो तो उदय के रूप में देखिये, कल उसकी संतान में मिल जायेगा... शुभकामनायें

डॉ.मीनाक्षी स्वामी ने कहा…
on 

बहुत सुंदर...!

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)