शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

कवि रामेश्वर शर्मा की एक कविता---अंधा

कवि रामेश्वर शर्मा की एक कविता

अंधा

एक अंधा
एक हाथ कटोरा
एक हाथ डंडा
भूख से धंसा पेट
कहता दे दाता
करता गुहार
वहां से गुजरता
हर व्यक्ति
अनदेखा बन
चल पड़ता है
अंधों की तरह
वाह रे!
अंधे की दुनिया
अंधे की सरकार
रोज गरीबी भूखमरी
अखबारों भाषणों से
दे रहे दुहाई
बैठा सिंहासन पर
लाज द्रौपदी की
लुटवा रहा है
कृष्ण को उलझा रहा है
कि यह कथन
कितना सच होगा
उस अंधे से
यह अंधा अच्छा होगा।

कवि रामेश्वर शर्मा
शिवनगर मार्ग
बढई पारा रायपुर (छ ग)
09302179153

Comments :

12 टिप्पणियाँ to “कवि रामेश्वर शर्मा की एक कविता---अंधा”
PRATUL ने कहा…
on 
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
PRATUL ने कहा…
on 

अंधे भिखारी को अनदेखा कर आगे बढ़ने वाले क्या वाकई अंधे होते हैं?
— [1] हाँ, वे अंधे ही तो हैं जो उनके हाथ का कटोरा नहीं देखते.
— [2] नहीं, वे अधिक सजग होते हैं, इसलिए अनदेखा कर आगे बढ़ते हैं.
— [3] हाँ, वे आँख से बेशक अंधे न हों, लेकिन संवेदना से पूरी तरह अंधे होते हैं.
— [4] वे थोड़े अंधे थोड़े बहरे होते हैं.
— [5] उन्हें सुन्दर आँखें नहीं दिखती सो अनदेखा कर आगे बढ़ जाते हैं.

गिरिजेश राव ने कहा…
on 

मुझे 'आप की कलम के अक्षर' पढ़ने में अधिक तृप्ति देते हैं आर्य !

ललित शर्मा ने कहा…
on 

@गिरिजेश राव

पता नहीं क्यों गिरिजेश भाई विगत मार्च के बाद कुछ लिखने का दिल ही नहीं किया है।

शायद कुछ काला जादु किसी ने कर दिया है:)
अगर कोई जानकार बैगा हो तो बताना।
झाड़ फ़ूंक करवानी है।

राज भाटिय़ा ने कहा…
on 

बहुत सुंदर लगी आप की यह कविता,

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…
on 

रामेश्वर जी की रचना अच्छी लगी...

झाड फूंक खुद ही करिये ..कविता अपने आप बहेगी..

निर्मला कपिला ने कहा…
on 

बहुत अच्छी लगी रामेशव्र जी की रचना। बधाई।

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…
on 

अंधेपन के बहाने जीवन की विद्रूपताओं का सुंदर चित्रण किया है।
………….
संसार की सबसे सुंदर आँखें।
बड़े-बड़े ब्लॉगर छक गये इस बार।

singhsdm ने कहा…
on 

रामेश्वर शर्मा की कविता बहुत ही शानदार है....
हर व्यक्ति
अनदेखा बन
चल पड़ता है
अंधों की तरह
वाह रे!
******
बैठा सिंहासन पर
लाज द्रौपदी की
लुटवा रहा है
कृष्ण को उलझा रहा है
कि यह कथन
कितना सच होगा
उस अंधे से
यह अंधा अच्छा होगा।
वाह वाह......!

सुमन कुमार ने कहा…
on 

एक अंधा
एक हाथ कटोरा
एक हाथ डंडा
भूख से धंसा पेट
कहता दे दाता
करता गुहार
वहां से गुजरता
हर व्यक्ति
अनदेखा बन
चल पड़ता है
अंधों की तरह
वाह रे!
अंधे की दुनिया


क्या शानदार लिखा कविता है.
धन्यवाद ........
मेरी कविता भी खो गई है

खो गई है, मेरी कविता
पिछले दो दशको से.
वह देखने में, जनपक्षीय है
कंटीला चेहरा है उसका
जो चुभता है, शोषको को.
गठीला बदन, हैसियत रखता है
प्रतिरोध की.
उसका रंग लाल है
वह गई थी मांगने हक़,
गरीबों का.
फिर वापस नहीं लौटी,
आज तक.

राम त्यागी ने कहा…
on 

बहुत अच्छी लगी ये रचना !!

सुनीता शानू ने कहा…
on 

कवि रामेश्वर शर्मा जी की कविता बहुत अच्छी लगी। यहाँ पढ़वाने के लिये आभार।

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)