शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

देख क्रुरता फ़ूलों की हम दंग हो गये--एक गीत

कवि रामेश्वर शर्मा का एक गीत

देख क्रुरता फ़ूलों की हम दंग हो गये

जीवन है या जटिल समस्या तंग हो गये।
आदर्शों के रंग गिरगिट के रंग हो गये।

कपटी भावों में डूबे जग मुंह बोले संबंध हुये
विश्वासों के रुपक पछतावे भर के अनुबंध हुये
सच धोखे के व्यापारी के संग हो गये।

आशाओं का राग रंग तो भ्रम का खेल खिलौना है
संध्या की आशंकाओं में घिरा हुआ दोपहर बौना है
संयम नियम विवशताओं के अंग हो गये।

अपनी-अपनी लोलुपता में मधुमक्खी है लोग बने
परिभाषाओं के प्रपंच में अर्थ व्यर्थ का रोग बने
देख क्रुरता फ़ूलों की हम दंग हो गये।

रामेश्वर शर्मा
शिवनगर मार्ग बढई पारा
रायपुर (छ.ग.)
09302179153

Comments :

12 टिप्पणियाँ to “देख क्रुरता फ़ूलों की हम दंग हो गये--एक गीत”
इटिप्स ब्लाग टीम ने कहा…
on 

ललित जी छा गये जी आप

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…
on 

अपनी-अपनी लोलुपता में मधुमक्खी है लोग बने
परिभाषाओं के प्रपंच में अर्थ व्यर्थ का रोग बने
देख क्रुरता फ़ूलों की हम दंग हो गये।

बहुत बढ़िया ..

DR. PAWAN K MISHRA ने कहा…
on 

chupee krurta kafee khatarnaak hotee hai
bahut badiya

नीरज जाट जी ने कहा…
on 

बहुत बढिया रामेश्वर जी बहुत बढिया।

अमरेन्द्र नाथ त्रिपाठी ने कहा…
on 

सुन्दर रचना है ..
समय के सच को कहती !
आभार !

शारदा अरोरा ने कहा…
on 

aaj ke samay ka sach , behtar byaan kiya hai ..

राज भाटिय़ा ने कहा…
on 

बहुत खुब जी, धन्यवाद

girish pankaj ने कहा…
on 

sundar geet..sachmuch, kabhi-kabhi fool bhi kroor ho jate hai....

पवन धीमान ने कहा…
on 

अपनी-अपनी लोलुपता में मधुमक्खी है लोग बने ..परिभाषाओं के प्रपंच में अर्थ व्यर्थ का रोग बने
....बहुत अच्छी रचना

पवन धीमान ने कहा…
on 

अपनी-अपनी लोलुपता में मधुमक्खी है लोग बने ..परिभाषाओं के प्रपंच में अर्थ व्यर्थ का रोग बने
....बहुत अच्छी रचना

वाणी गीत ने कहा…
on 

कपटी भावों में डूबे जग मुंह बोले संबंध हुये
विश्वासों के रुपक पछतावे भर के अनुबंध हुये
सच धोखे के व्यापारी के संग हो गये।

क्रूर सत्य ...मगर फिर भी अपने आत्मसंतोष के लिए सत्य की राह ना छूटे , कोई आस ना टूटे ...!

रवि कुमार, रावतभाटा ने कहा…
on 

बेहतर गीत...

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)