शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
रफ़्तार
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

पाया प्रेम का मोती जग में!!!

जग में गुरु समान नही दानी 
गुरु पिता,   गुरु  माता  ज्ञानी ,गुरु  समान नहीं दानी


सदगुरु राह दिखाई तुमने, जगती का कल्याण किया
अनगढ़ पत्थर को तो तुमने, अपने हाथ संवार दिया 
तू ही महान,तू ही ज्ञानी,गुरु समान नहीं दानी जग में 


जब  जब  राह  पथिक भटका, अपने हाथ सहार दिया
मेरी  राहों  के काँटों को तुमने, अपने आप बुहार  दिया
किरपा  का  नही  सानी,  गुरु समान नहीं दानी जग में


जिस पर तेरी करुणा व्यापी, उसको तुमने संवार दिया
प्रेम  प्रकाश  आलोकित  करके, जीने  को  संसार दिया
तेरी महिमा सब ने मानी, गुरु समान नही दानी जग में


मूढ़  मति  का  मर्दन  करके, ज्ञान  के   विटप   लगाये
उर  अन्धकार  मिटा  करके,तुमने प्रज्ञा   दीप   जलाये
तेरी  करुणा सबने मानी, गुरु समान नहीं दानी जग में


"ललित"  श्री  चरणों  में  तेरे,  नित  श्रद्धा सुमन चढ़ाये 
तेरी  करुणा  के  सागर  में,  नित   गहरा   गोता   खाए
पाया प्रेम का मोती जग में,गुरु समान नहीं दानी जग में

आपका 
शिल्पकार

Comments :

11 टिप्पणियाँ to “पाया प्रेम का मोती जग में!!!”
M VERMA ने कहा…
on 

गुरु समान नहीं दानी जग में
सही कहा है गुरू की महिमा का बखान जितना किया जाये कम ही है.

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…
on 

ललित" श्री चरणों में तेरे, नित श्रद्धा सुमन चढ़ाये

तेरी करुणा के सागर में, नित गहरा गोता खाए

पाया प्रेम का मोती जग में,गुरु समान नहीं दानी जग में

बहुत खूब मगर आज इस व्यावसायीकरण के जमाने में कहाँ गुरु को इतना सम्मान मिलता है ?

अजय कुमार ने कहा…
on 

सहमत हूं , गुरू की महिमा अपरम्पार

Unknown ने कहा…
on 

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णु गुरुर्देवो महेश्वरः।
गुरुर्साक्षात् परमब्रह्म तस्मै श्री गुरुवै नमः॥

गुरु गोविन्द दोऊ खड़े काके लागूँ पाँय।
बलिहारी गुरु आपकी गोविन्द दियो बताय॥

मनोज कुमार ने कहा…
on 

आपसे सहमत हूँ। गुरु चरणों में नमन।

राज भाटिय़ा ने कहा…
on 

बहुत सुंदर जी धन्यवाद

राजीव तनेजा ने कहा…
on 

आपने सही कहा...गुरू की महिमा को कभी भी भुलाया नहीं जा सकता

Kusum Thakur ने कहा…
on 

"गुरु समान नहीं दानी जग में"

बिल्कुल सही कहा है . गुरु के समान दानी कोई नही हो सकता !

GK Khoj ने कहा…
on 

Mars in Hindi
Peacock in Hindi
Horse in Hindi
Tiger in Hindi
Moon in Hindi

GK Khoj ने कहा…
on 

Uranus in Hindi
Sun in Hindi
Mercury in Hindi
Technology in Hindi
Venus in Hindi
Cow in Hindi

GK Khoj ने कहा…
on 

Globalization in Hindi
Share Market in Hindi
BPO in Hindi
SIP in Hindi
Kisan Credit Card in Hindi
ATM in Hindi
SENSEX in Hindi
Credit Card in Hindi
UPI in Hindi
cryptocurrency in Hindi

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)
hit counter for blogger
www.hamarivani.com