शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

अब काव्य उमड़ता-घुमड़ता नहीं -- ललित शर्मा

एक अरसे से शिल्पकार ने कुछ काव्य रचा नहीं, पहले रोज एक पोस्ट आ ही जाती थी नित नेम से। शायद काव्य का सोता सूख गया। अब काव्य उमड़ता-घुमड़ता नहीं। पता नहीं क्यो अनायास हीं एक जीता जागता ब्लॉग मृतप्राय हो गया, जबकि यह मेरा पहला ब्लॉग है। शिल्पकार ब्लॉग जगत की गलियों भटकता रहा। कहते हैं न खरबूजे को देख कर खरबूजा रंग बदलता है ऐसा ही कुछ हुआ है। फ़ेसबुक की चार लाईनों ने एक गजल तैयार करने की लालसा जगा दी। बहुत सारे ब्लॉगर साथी फ़ेसबुक पर लगे हुए हैं, धड़ाधड़ महाराज की तरह वहीं पोस्ट हो रहा है। एक गजल नुमा प्रस्तुत कर रहा हूँ, ईटर-मीटर का तो पता नहीं। गुणी जन कृपा करेगें, उम्मीद है कि हफ़्ते में एकाध बार तो इस ब्लॉग पर काव्यमय पोस्ट लग जाएगी।




जीते जी कुछ करो तो बात बने।
कोई महफ़िल सजाओ तो बात बने।।

तुम्हारी महफ़िल में आना चाहते हैं।
कोई नगमा सुनाओ तो बात बने॥

कतरा समंदर भी असर रखता है।
प्यास मन की बुझाओ तो बात बने॥

गर्म हवाओं से झुलसा है मन मेरा।
हवा प्यार की बहाओ तो बात बने।।

मचलता रहा यह दिल तुम्हारे लिए।
आकर सीने से लगाओ तो बात बने॥

तनहा खड़ा जिन्दगी के चौराहे पर ।
बस साथ मेरा निभाओ तो बात बने॥


आपका शिल्पकार

Comments :

19 टिप्पणियाँ to “अब काव्य उमड़ता-घुमड़ता नहीं -- ललित शर्मा”
Archana Chaoji ने कहा…
on 

ईटर-मीटर का पता तो अपन भी नहीं रखते हैं..पर जो कुछ रचा गया है,आगे भी रचते रहें तो कुछ बात बने!!!...

Rahul Singh ने कहा…
on 

बात तो अच्‍छी बन गई है.

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…
on 

उमडही घला, घुमडही घला,
बरसही घला, सुलगही घला,
कविता झरही पारिजात कस
मन बिरवा ला बने कस हला


फेर सुग्घर 'गजलनुमा' त बने हवे...
जय जोहार...

Unknown ने कहा…
on 

jai ho.........
ye post balle balle

दर्शन कौर धनोय ने कहा…
on 

बहुत कठिन हैं जिन्दगी का सफ़र थोड़ी देर साथ चलो
कांटो -भरी हैं ये राहगुजर थोड़ी देर साथ चलो ..
तमाम उम्र कहाँ कोई साथ देता हैं ----
इक शब की मुलाक़ात हैं थोड़ी देर साथ चलो
किसे हैं कल की खबर थोड़ी देर साथ चलो
अभी तो जल रहे हैं चिराग रहो में ---
बहुत दूर हैं सहर थोड़ी देर साथ चलो ..

..इसी तरह लिखते रहे ....हम साथ हैं ..लिखने में और पढने में ...

संध्या शर्मा ने कहा…
on 

बहुत खूबसूरत रचना...
हमको नदियों की ये तरह लगती है
इसे सागर सा बनाओ तो कोई बात बने...
शुभकामनाये....

vandan gupta ने कहा…
on 

ओये होये ललित जी ………ऐसी ऐसी लिखेंगे तो बात तो जरूर बन कर रहेगी…………और यहाँ तो बात बन ही गयी है देखिये तो सही क्या खूब गज़ल लिखी है…………अगर इसे कहते हैं काव्य उमडता घुमडता नही तो जब उमडेगा तो क्या होगा?

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…
on 

लो जी हमने भी अपनी दो पंक्तियाँ जोड़ दी है इस में ....

ठहर गयी आसमाँ की नदिया तारो सहित
उनमे आये कोई उफान ,तो बात बने ||anu

Anupama Tripathi ने कहा…
on 

sunder rachna ...

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद ने कहा…
on 

सिर की खेती सूख सकती है पर काव्य का सोता नहीं और यह कविता उसका प्रमाण है :)

Swarajya karun ने कहा…
on 

बात बनती नज़र आ रही है .अच्छी रचना .आभार.

mridula pradhan ने कहा…
on 

कतरा समंदर भी असर रखता है।
sahi kahe aap......

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…
on 

बिना इटर मीटर के ही बात सीधे बन जाती है ... बहुत खूबसूरत रचना

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…
on 

आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल आज 08 -12 - 2011 को यहाँ भी है

...नयी पुरानी हलचल में आज... अजब पागल सी लडकी है .

यशवन्त माथुर ने कहा…
on 

बहुत बढ़िया सर!

सादर

सदा ने कहा…
on 

बेहतरीन प्रस्‍तुति।

Sadhana Vaid ने कहा…
on 

अरे वाह ! यह बात तो बहुत ही खूबसूरत बन गयी ललित जी ! आगे भी ऐसे ही बनती रहेगी ऐसी आशा है ! बहुत सुन्दर गज़ल रच डाली है ! क्या कहने !

मन के - मनके ने कहा…
on 

बहुत सुंदर---तो बात बने.

इन्दु पुरी ने कहा…
on 

अभी जाती हूँ आपकी शिकायत करने.एक तो घर मे टिकना नही,बंजारे बने हुए है पूरे .उस पर कभी मायावती जी के साथ फोटो खिंचवाकर ब्लॉग पर लगा रहे हो कभी गजले लिख रहे हो.आप तो ऐसे न थे ललिईईईईईईईईत भैया!

मचलता रहा यह दिल तुम्हारे लिए।
आकर सीने से लगाओ तो बात बने॥

तनहा खड़ा जिन्दगी के चौराहे पर ।
बस साथ मेरा निभाओ तो बात बने॥' भाभीईईईईईईई ! आपको बुला रहे हैं सुनो तो.

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)