शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

बसंत तू कब आया ?

रात के तीन बजकर 29 मिनट हुए हैं, चैट पर टन्न की आवाज आती है। बसंत पंचमी की शुभकामनाएं लिखा दिखाई देता है। ध्यान से देखता हूँ तो अरुण राय जी हैं। जिनकी कविताएं मुझे बहुत पसंद आती है। समय-बेसमय उनके ब्लॉग पर जाता हूँ और बिना आहट के चला आता हूँ। मुझे कविता लिखे लगभग एक बरस होने को आ गया। कहीं से एक झटका लगा और कविता का प्रवाह रुक गया। बरस भर में 10 पंक्तियाँ भी कविता, गीत, गजल कह न सका। लेकिन आज कवि को देख कर कवि मन जाग उठा। एक कविता उतर  आई। प्रस्तुत है आपके लिए, शायद आपको पसंद आ जाए।

पता ही न चला
बसंत तू कब आया
लगा था उधेड़ बुन में
एक आहट तो दी होती
मैं भी संवर जाता
मदनोत्सव के लिए
तेरा आना सहज है
लेकिन जाना पीड़ादायक
कामदेव रति के बिछोह के बाद
तू चला जाता है अपनी राह
अधुरा मदनोत्सव छोड़कर
पलाश की लालिमा 
बाट जोहती है
बरस भर
तेरे आने की
कामदेव भस्म होकर भी
जीवन पा गया
लेकिन मैं जलता रहता हूँ
सुलगता रहता हूँ 
सिगड़ी सा
पतझड़ की गर्म हवाओं में
तेरी प्रतीक्षा करते हुए 

आपका 
शिल्पकार

Comments :

17 टिप्पणियाँ to “बसंत तू कब आया ?”
dhiru singh {धीरू सिंह} ने कहा…
on 

बसंतोत्सव पर आप भी बसंत में डुबे रहे .

निर्मला कपिला ने कहा…
on 

बसंतोत्सव की बहुत बहुत बधाई।

वन्दना ने कहा…
on 

सुन्दर अभिव्यक्ति।बसंत पंचमी की हार्दिक शुभ कामनाएं.

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…
on 

ललित भाई बहुत सुन्दर कविता है.. वसंत के ब्रह्म मुहूर्त में लिखी गई कविता वाकई आनंद दे रही है.. नए से भाव हैं कविता के ... कविता की आरंभिक पंक्तियाँ सुरक्षित रहेंगी मेरे चैट बॉक्स में... धरोहर की तरह..

ताऊ रामपुरिया ने कहा…
on 

अति सुंदर रचना, बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं.

रामराम.

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…
on 

"रात के तीन बजकर 29 मिनट हुए हैं, चैट पर टन्न की आवाज आती है। बसंत पंचमी की शुभकामनाएं लिखा दिखाई देता है।"

तो क्या आप भी ड्राई-डे....... ? :)

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…
on 

और कहीं आया हो अथवा नहीं, पर ब्‍लॉग जगत में तो आ ही गया है। हार्दिक बधाई।

---------
ब्‍लॉगवाणी: एक नई शुरूआत।

Dr Varsha Singh ने कहा…
on 

पलाश की लालिमा
बाट जोहती है
बरस भर
तेरे आने की....

हर शब्द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति .

रजनी मल्होत्रा नैय्यर ने कहा…
on 

पलाश की लालिमा
बाट जोहती है
बरस भर
तेरे आने की.... बहुत सुंदर रचना....
बसंतोत्सव की बहुत बहुत बधाई

शरद कोकास ने कहा…
on 

आपका यह कवि बसंत के जाने के बाद भी न जाये यह दुआ ।

madansharma ने कहा…
on 

बहुत सुंदर रचना...बहुत बहुत बधाई।

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…
on 

बहुत सुन्दर.

शिवम् मिश्रा ने कहा…
on 

"तेरा आना सहज है...
लेकिन जाना पीड़ादायक"

जाना अक्सर ही पीड़ा देता है ... फिर भी जो आता है उसको जाना तो होता ही है !

Er. सत्यम शिवम ने कहा…
on 

कामदेव भस्म होकर भी
जीवन पा गया
लेकिन मैं जलता रहता हूँ
सुलगता रहता हूँ
सिगड़ी सा
पतझड़ की गर्म हवाओं में
तेरी प्रतीक्षा करते हुए

दादा प्रकृति प्रणय की अनोखी चुभन है इस रचना में...लाजवाब।

अशोक कुमार मिश्र ने कहा…
on 

बहुत खूब सर ..........

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…
on 

आपके अंदर के सोते कवि को जगा तो गया वसंत अब काहे कि शिकायत । पगडी वाली फोटो में जंच रहे हैं ।

kase kahun? ने कहा…
on 

likhane ke liye prerna lena to bas ek bahana hai...bahut sunder likha hai aapne...

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)