शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
रफ़्तार
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

कब आओगे??????????

तलाशता हुँ 
तुम्हे नित्य
सड़क पर
आती जाती बसों में
अपने गंतव्य की ओर जा रहे
यात्रियों की भीड़ में
जब कोई बस आती हुई 
दिखाई देती है दूर से
तुम्हे देखने चढ़ जाता हूँ
ऊँचे टीले पर
पहाडी टेकरी पर
फिर एक बार 
सवारियों के बीच 
तुम्हें तलाशता हूँ
कुछ समय बाद 
दूसरी बस आती है
तुम्हे लिए बिना
मैं उसे जाते हुए देखता हूँ
फिर उसके आने की
प्रतीक्षा करता हूँ
जब से तुम गई हो
नित्य यही होता है
बस आती है 
और चली जाती है
मैं इंतजार करता हूँ
हाथ में लिए हुए 
सुखा गुलाब का फूल
जो लाया था उस दिन 
तुम्हारे जन्म दिन पर
तब से आज तक 
फिर नहीं आया 
तुम्हारा जन्म दिवस
मैं तुम्हारे लौट आने की
प्रतीक्षा में खड़ा हूँ 
वहीं पर 
उस टेकरी पर
आती जाती बसों को 
देखते हुए.
रोज की तरह 
जन्म दिन की 
मुबारकबाद देने के लिए 

आपका 
शिल्पकार

Comments :

19 टिप्पणियाँ to “कब आओगे??????????”
Udan Tashtari ने कहा…
on 

तुम्हे देखने चढ़ जाता हूँ
ऊँचे टीले पर
पहाडी टेकरी पर
फिर एक बार
सवारियों के बीच
तुम्हें तलाशता हूँ


---क्या बात कह गये...सबने अहसासा है इसे!!

डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali) ने कहा…
on 

इंतज़ार को बहुत ही खूबसूरती से प्रदर्शित किया है आपने....


बेहतरीन भावों के साथ खूबसूरत रचना......

दिनेशराय द्विवेदी ने कहा…
on 

किसी प्रिय का विछोह और तलाश ऐसे ही होते हैं। सुंदर कविता।

Anil Pusadkar ने कहा…
on 

ललित बाबू ,ये मौसम का असर है लगता है,उधर विवेक दस साल बाद कविता कर रहे हैं इधर तुम्हारा भी मूड गज़ब ढा रहा है,लगता है कोई एन्टी रोमांटिक वैक्सीन लगवाना ही पड़ेगा।

Dr. Zakir Ali Rajnish ने कहा…
on 

ललित जी, बहुत सुंदर भाव। इतने प्यार से अगर कोई हमें सात समंदर पार से भी बुलाता, तो मैं दौड़ा चला जाता।

------------------
क्या धरती की सारी कन्याएँ शुक्र की एजेंट हैं?
आप नहीं बता सकते कि पानी ठंडा है अथवा गरम?

ताऊ रामपुरिया ने कहा…
on 

निहायत ही खूबसूरत रचना बहुत शुभकामनाएं.

रामराम.

Pawan Kumar ने कहा…
on 

ललित जी
इन्तिज़ार के लम्हों को बिलकुल तस्वीर नुमा कविता का आपने बेहतरीन जामा पहनाया है......!
बहुत
सुन्दर पंक्तियाँ

मनोज कुमार ने कहा…
on 

कब आओगे??????????
तुम तक जाती है मेरी हर निगाहें, जाने क्यों
जालिम आवाज़ ही टकरा कर लौट आती है।

मनोज कुमार ने कहा…
on 

मैं Udan Tashtari जी से सहमत हूं
हम..सबने अहसासा है इसे!!

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…
on 

सुखा गुलाब का फूल

जो लाया था उस दिन

तुम्हारे जन्म दिन पर

तब से आज तक

फिर नहीं आया

तुम्हारा जन्म दिवस

मैं तुम्हारे लौट आने की

प्रतीक्षा में खड़ा हूँ

वहीं पर

उस टेकरी पर

आती जाती बसों को

देखते हुए.

रोज की तरह

जन्म दिन की

मुबारकबाद देने के लिए

सुन्दर और मार्मिक भाव बिखेरे है आपकी कविता ने ललित जी !

निर्मला कपिला ने कहा…
on 

बहुत बडिया भावमय रचना है शुभकामनायें

M VERMA ने कहा…
on 

बस आती है
और चली जाती है
मैं इंतजार करता हूँ
हाथ में लिए हुए
सुखा गुलाब का फूल
बहुत सुन्दर एहसास की कविता और भाव्

शेफाली पाण्डे ने कहा…
on 

bahut khoobsurat kavita hai....badhaai

Khushdeep Sehgal ने कहा…
on 

ललित भाई,
बस और वो... दोनों के लिए इतनी दिल पर नहीं लगानी चाहिए...एक जाती है...दूसरी आ जाती है...

जय हिंद...

Unknown ने कहा…
on 

मैं तुम्हारे लौट आने की
प्रतीक्षा में खड़ा हूँ
Sir jI, yahan to khade-khade mere paav bhar gaye hai, lekin fir bhi khade hain
bahut achchi lagi aapki ye rachna......

राजीव तनेजा ने कहा…
on 

गहरे एहसास को दिल में ले कर लिखी गई भावपूर्ण रचना

GK Khoj ने कहा…
on 

Animation in Hindi
Google Drive in Hindi
GSM in Hindi
Web Page in Hindi
4G in Hindi
Hotspot in Hindi
Command Prompt in Hindi
Twitter in Hindi
Information in Hindi
Xerox in Hindi

GK Khoj ने कहा…
on 

Computer Data in Hindi
Broadband in Hindi
Monitor in Hindi
Mobile Ram in Hindi
Google Play Store in Hindi
Projector in Hindi
Laptop in Hindi
Floppy Disk in Hindi
Bluetooth in Hindi
Google Maps in Hindi

GK Khoj ने कहा…
on 

Supercomputers in Hindi
Data Science in Hindi
Malware in Hindi
Information Technology in Hindi
Robot in Hindi
Application Software in Hindi
Desktop in Hindi
Emoji in Hindi
Technology in Hindi

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)
hit counter for blogger
www.hamarivani.com