शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
रफ़्तार
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

मैने नहीं सिलगाई बुखारी

वो लकड़ियाँ कहाँ हैं?
जिन्हे सकेला था बुखारी के लिए
अब के ठंड  में
देती गरमाहट तुम्हारे सानिध्य सी
बुखारी ठंडी पड़ी पर
कांगड़ी में सुलग रहे है
कुछ कोयले
पिछले कई सालों से
जिसकी गरमी का
अहसास है मुझे अब तक
जब से तुमने आने का वादा किया
मैने नहीं सिलगाई बुखारी
सिर्फ़ कांगड़ी को सीने से
लगाए रखा
दिल को गर्माहट देने
और बचाने के लिए
महुए के कोयले की तरह
धीरे धीरे सुलगना मंजुर है
बुखारी के लिए


आपका 
शिल्पकार

Comments :

17 टिप्पणियाँ to “मैने नहीं सिलगाई बुखारी”
dhiru singh { धीरेन्द्र वीर सिंह } ने कहा…
on 

बहुत खूब ............ मै तो पहले बुखारी को क्छ और सम्झा था

dhiru singh { धीरेन्द्र वीर सिंह } ने कहा…
on 

बहुत खूब ............ मै तो पहले बुखारी को क्छ और सम्झा था

dhiru singh { धीरेन्द्र वीर सिंह } ने कहा…
on 
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…
on 

"संबंधों में इतनी शीतलता ठीक नहीं।" प्रकृति की निष्ठुरता के साथ साथ मानवीय संबंधों मे आ रही शीतलता का सुंदर चित्रण। आभार………

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…
on 

"संबंधों में इतनी शीतलता ठीक नहीं।" प्रकृति की निष्ठुरता के साथ साथ मानवीय संबंधों मे आ रही शीतलता का सुंदर चित्रण। आभार………

गिरिजेश राव, Girijesh Rao ने कहा…
on 

@ कांगड़ी में सुलग रहे है
कुछ कोयले
पिछले कई सालों से
जिसकी गरमी का
अहसास है मुझे अब तक
जब से तुमने आने का वादा किया
मैने नहीं सिलगाई बुखारी
सिर्फ़ कांगड़ी को सीने से
लगाए रखा
दिल को गर्माहट देने
और बचाने के लिए

वाह! लूट लिए आज तो।

संगीता पुरी ने कहा…
on 

गजब लिखा है !!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…
on 

संबंधों की शीतलता के प्रति गहरी संवेदना ..बहुत अच्छी लगी रचना ..

vandan gupta ने कहा…
on 

संबंधों में इतनी शीतलता ठीक नहीं।
मुक्त हो जाना भी ठीक नहीं
महुए के कोयले की तरह
धीरे धीरे सुलगना मंजुर है
बुखारी के लिए

महुये के कोयले की तरह्……………सुन्दर बिम्ब ……………गज़ब का भाव संप्रेषण्।

arvind ने कहा…
on 

bahut badhiya.....sundar rachna.

shikha varshney ने कहा…
on 

"संबंधों में इतनी शीतलता ठीक नहीं
गहरी बात कही है .

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…
on 

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 16 -11-2010 मंगलवार को ली गयी है ...
कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…
on 

http://charchamanch.blogspot.com/

वाणी गीत ने कहा…
on 

कांगड़ी और बुखारी का शानदार अनूठा प्रयोग !

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति ने कहा…
on 

कांगड़ी में सुलग रहे है
कुछ कोयले
पिछले कई सालों से
जिसकी गरमी का
अहसास है मुझे अब तक
जब से तुमने आने का वादा किया
मैने नहीं सिलगाई बुखारी
सिर्फ़ कांगड़ी को सीने से
लगाए रखा
दिल को गर्माहट देने
और बचाने के लिए

सुन्दर ..बहुत खूब..

अनुपमा पाठक ने कहा…
on 

sundar rachna.... saarthak vimb!
regards,

M VERMA ने कहा…
on 

सिर्फ़ कांगड़ी को सीने से
लगाए रखा
दिल को गर्माहट देने
और बचाने के लिए
संबंधों में इतनी शीतलता ठीक नहीं।
बेहतरीन रचना ...

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)
hit counter for blogger
www.hamarivani.com