शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

मैं बादल की सहेली

हवा है मेरा नाम मैं बादल की सहेली
आकाश पे छा जाती हूँ मैं बनके पहेली

आँधियों ने आ के मेरा घर बसाया
आकाश के तारों ने उसे खूब सजाया
चली जब गंगा की ठंडी पुरवैया
धुप के आंगन में खिली बनके चमेली

चुपके आ के कान में बादल ने ये कहा
भर के लाया हूँ पानी तू धरती पे बरसा
प्यास मिटेगी सबकी फैलेगी हरियाली
धरती भी झूमेगी बनके दुल्हन नवेली

जादे के मौसम की मैं सर्द हवा हूँ
पहाडों में भी बहती रही मैं मर्द हवा हूँ
फागुनी रुत में सिंदूरी हुआ पलाश
पतझड़ आया तो फिरि मैं बनके अकेली

सदियों से मैं तो यूँ ही चलती रही हूँ
चलते-चलते मैं कभी थकती नही हूँ
बहना ही मेरा जीवन चलना ही नियति है
बंजारन की बेटी हूँ मैं तो ये चली

हवा है मेरा नाम मैं बादल की सहेली
आकाश पे छा जाती हूँ मैं बनके पहेली।

आपका

शिल्पकार

Comments :

14 टिप्पणियाँ to “मैं बादल की सहेली”
सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…
on 

जय राम जी की। यहां तो आग की लपट को बढा रही है ये हवा। कब आयेगी बरसात। बस इसे इसके दोस्त बादल के साथ देखने की इच्छा है।

'उदय' ने कहा…
on 

...बेहतरीन रचना!!!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…
on 

मौसम के अनुसार अच्छी रचना...

shikha varshney ने कहा…
on 

हम्म लगता है भारत में जोरदार बारिश हो रही है ..सभी कवि मन जाग उठे हैं ..
सुन्दर रचना

राजकुमार सोनी ने कहा…
on 

शिखाजी ने ठीक ही कहा है... पिछले एक दो दिनों से कुछ कविता लिखने का ही मन कर रहा था.... कुत्ते चित्रों से निकलकर काट खाने के लिए दौड़ लगाने लगे थे।
आपने तो बढि़या लिखा है।

महफूज़ अली ने कहा…
on 

बहुत सुंदर रचना...

संगीता पुरी ने कहा…
on 

हवा है मेरा नाम मैं बादल की सहेली
आकाश पे छा जाती हूँ मैं बनके पहेली।

बहुत सुंदर लिखा है !!

girish pankaj ने कहा…
on 

sundar..ati sundar...matalab ab pani barasane vala hai.

M VERMA ने कहा…
on 

बहुत बढिया
हवा है मेरा नाम मैं बादल की सहेली
आकाश पे छा जाती हूँ मैं बनके पहेली।
दिल्ली में इस समय मौसम तो ऐसा ही बना हुआ है

राजीव तनेजा ने कहा…
on 

सुन्दर रचना

रचना दीक्षित ने कहा…
on 

वाह !!!!!!!क्या हवा है तभी मैं कहूँ की दिल्ली में मौसम सुहाना कैसे हो गया आभार

वन्दना ने कहा…
on 

वाह वाह ………बहुत हि सुन्दर प्रस्तुति।

AlbelaKhatri.com ने कहा…
on 

gazab ki kavita hai bhai aur mousam ke anuroop toh ye kamaal hai....

badehaai !

pasand***************

Maria Mcclain ने कहा…
on 

interesting blog, i will visit ur blog very often, hope u go for this website to increase visitor.Happy Blogging!!!

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)