शिल्पकार. Blogger द्वारा संचालित.

चेतावनी

इस ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री की किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं.
स्वागत है आपका

गुगल बाबा

इंडी ब्लागर

 

तमाम उम्र सफ़र में रहा

तमाम उम्र सफ़र में रहा
नहीं मैं कभी घर में रहा

यायावरी पर क्या कहूँ
कांटो भरी डगर में रहा

तम्मना-ए-परवाज थी
पर उनकी कैद में रहा

कह न सका दिल की
पासबां कोई हद में रहा

मीठे बोल बोलते हैं वो
सिर उनकी जद में रहा

चलते चलते पहुंचा तो
सज्जादों के शहर में रहा

Comments :

12 टिप्पणियाँ to “तमाम उम्र सफ़र में रहा”
संध्या शर्मा ने कहा…
on 

खूब कहिये मन की … यायावरी की, डगर-डगर, नगर -नगर की ... स्वागत है … बहुत सुन्दर रचना … शुभकामनायें

Unknown ने कहा…
on 

क्या बात कही

Ritesh Gupta ने कहा…
on 

bahut khoob

Fakira ने कहा…
on 
इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.
Fakira ने कहा…
on 

nice lines .....

यशवन्त माथुर (Yashwant Raj Bali Mathur) ने कहा…
on 

कल 26/10/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
धन्यवाद!

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…
on 

शिल्पकार की कलम चले, होय कवित्त प्रवाह।
लखि पठि जन मानस करे, वाह वाह अरु वाह॥
बहुत ही सुंदर रचना ……शुभकामनायें …

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…
on 

शिल्पकार की कलम चले, होय कवित्त प्रवाह।
लखि पठि जन मानस करे, वाह वाह अरु वाह॥
बहुत ही सुंदर रचना ……शुभकामनायें …

sushmaa kumarri ने कहा…
on 

बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति......

Onkar ने कहा…
on 

वाह, बहुत सुन्दर ग़ज़ल

दिगम्बर नासवा ने कहा…
on 

बहुत खूब ... उम्दा शेर हैं ...

कविता रावत ने कहा…
on 

बहुत ही सुंदर रचना …
शुभकामनायें …

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

लेबल

शिल्पकार (94) कविता (65) ललित शर्मा (56) गीत (8) होली (7) -ललित शर्मा (5) अभनपुर (5) ग़ज़ल (4) माँ (4) रामेश्वर शर्मा (4) गजल (3) गर्भपात (2) जंवारा (2) जसगीत (2) ठाकुर जगमोहन सिंह (2) पवन दीवान (2) मुखौटा (2) विश्वकर्मा (2) सुबह (2) हंसा (2) अपने (1) अभी (1) अम्बर का आशीष (1) अरुण राय (1) आँचल (1) आत्मा (1) इंतजार (1) इतिहास (1) इलाज (1) ओ महाकाल (1) कठपुतली (1) कातिल (1) कार्ड (1) काला (1) किसान (1) कुंडलियाँ (1) कुत्ता (1) कफ़न (1) खुश (1) खून (1) गिरीश पंकज (1) गुलाब (1) चंदा (1) चाँद (1) चिडिया (1) चित्र (1) चिमनियों (1) चौराहे (1) छत्तीसगढ़ (1) छाले (1) जंगल (1) जगत (1) जन्मदिन (1) डोली (1) ताऊ शेखावाटी (1) दरबानी (1) दर्द (1) दीपक (1) धरती. (1) नरक चौदस (1) नरेश (1) नागिन (1) निर्माता (1) पतझड़ (1) परदेशी (1) पराकाष्ठा (1) पानी (1) पैगाम (1) प्रणय (1) प्रहरी (1) प्रियतम (1) फाग (1) बटेऊ (1) बाबुल (1) भजन (1) भाषण (1) भूखे (1) भेडिया (1) मन (1) महल (1) महाविनाश (1) माणिक (1) मातृशक्ति (1) माया (1) मीत (1) मुक्तक (1) मृत्यु (1) योगेन्द्र मौदगिल (1) रविकुमार (1) राजस्थानी (1) रातरानी (1) रिंद (1) रोटियां (1) लूट (1) लोकशाही (1) वाणी (1) शहरी (1) शहरीपन (1) शिल्पकार 100 पोस्ट (1) सजना (1) सजनी (1) सज्जनाष्टक (1) सपना (1) सफेदपोश (1) सरगम (1) सागर (1) साजन (1) सावन (1) सोरठा (1) स्वराज करुण (1) स्वाति (1) हरियाली (1) हल (1) हवेली (1) हुक्का (1)